tanveer jafri

असहमत लोकतंत्र का आभूषण या राष्ट्रविरोध की पहचान

धर्म की कम देश की अधिक चिंता करने का समय

हर साँस पर मौत की इबारत लिखता 'जानलेवा प्रदूषण'

भारत रत्न की महत्ता पर लगता ग्रहन ?

गाँधी के देश में गोडसे का महिमामण्डन ?

हमारे प्रेरक ग़ज़नवी नहीं बल्कि मोहम्मद के घराने वाले हैं

मुहर्रम पर विशेष - क़यामत तक प्रासंगिक रहेगी,दास्तान-ए-करबला

सच को सच कह दोगे अगर तो फांसी पर चढ़ जाओगे

आरक्षण ख़त्म करने ने से पहले नफ़रत के संस्कारों का ख़ात्मा ज़रूरी

छोटे मुंह से बड़ी बड़ी बातें ?

कश्मीर: यह तो होना ही था

पत्रकारिता की लाज

महाबली ट्रंप की विश्वसनीयता पर लगता प्रश्नचिन्ह

पाक के ये पाक के ये नापाक रहनुमा

महाशक्ति बनते भारत में मानव जीवन के मूल्य ?

यह सशक्तीकरण है जनाब,तुृष्टीकरण नहीं...

कड़वाहट भरी शुरुआत के मायने ?

नेताओं का हित व जनता का अहित करते चुनाव कानून

मार्गदर्शन - राष्ट्रवाद पर...

क्राईस्टचर्च : नफरत से निकला प्रेम व सद्भाव का संदेश

इन्हें चाहिए सैन्य पराक्रम का श्रेय ?

तू इधर-उधर की बात न कर...

सुशासन के दावे और चरमराता लोकतंत्र

ईश निंदा कानून: इस्लामी या ग़ैर इंसानी ?

सियासत में तल्ख़ियो की इंतेहा

नोटबंदी : उत्सव नहीं तो पुण्यतिथि ही मना लेते?

आपातकाल बनाम ‘आफत काल’

बिकाऊ टी वी चैनल्स की भडक़ाऊ बहस

हादसे-मुआवज़े-आरोप-प्रत्यारोप और मानव जीवन

राफेल सौदा: प्रधानमंत्री पर आरोप मढऩा क्या इतना आसान ?