Friday, September 20th, 2019

tanveer jafri

हमारे प्रेरक ग़ज़नवी नहीं बल्कि मोहम्मद के घराने वाले हैं

मुहर्रम पर विशेष - क़यामत तक प्रासंगिक रहेगी,दास्तान-ए-करबला

सच को सच कह दोगे अगर तो फांसी पर चढ़ जाओगे

आरक्षण ख़त्म करने ने से पहले नफ़रत के संस्कारों का ख़ात्मा ज़रूरी

छोटे मुंह से बड़ी बड़ी बातें ?

कश्मीर: यह तो होना ही था

पत्रकारिता की लाज

महाबली ट्रंप की विश्वसनीयता पर लगता प्रश्नचिन्ह

पाक के ये पाक के ये नापाक रहनुमा

महाशक्ति बनते भारत में मानव जीवन के मूल्य ?

यह सशक्तीकरण है जनाब,तुृष्टीकरण नहीं...

कड़वाहट भरी शुरुआत के मायने ?

नेताओं का हित व जनता का अहित करते चुनाव कानून

मार्गदर्शन - राष्ट्रवाद पर...

क्राईस्टचर्च : नफरत से निकला प्रेम व सद्भाव का संदेश

इन्हें चाहिए सैन्य पराक्रम का श्रेय ?

तू इधर-उधर की बात न कर...

सुशासन के दावे और चरमराता लोकतंत्र

ईश निंदा कानून: इस्लामी या ग़ैर इंसानी ?

सियासत में तल्ख़ियो की इंतेहा

नोटबंदी : उत्सव नहीं तो पुण्यतिथि ही मना लेते?

आपातकाल बनाम ‘आफत काल’

बिकाऊ टी वी चैनल्स की भडक़ाऊ बहस

हादसे-मुआवज़े-आरोप-प्रत्यारोप और मानव जीवन

राफेल सौदा: प्रधानमंत्री पर आरोप मढऩा क्या इतना आसान ?

सैन्य पराक्रम - देश का गौरव या दल का ?

राफेल विमान सौदा:इस दौर-ए-सियासत के अंदाज़ निराले हैं...

अन्याय व अहंकार के विरोध की याद दिलाती शहादत-ए-हुसैन

भाजपा को कांग्रेस संगठन से नहीं विचारधारा से परेशानी

सोच व संस्कारों का परिचय कराते बेतुके बोल