मैली यमुना पर चल रहे सियासी घमासान के बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा ‘यमुना मेरी जिम्मेदारी है और अगले चुनाव तक साफ हो जाएगी।’ इस मामले में वह किसी पर आरोप नहीं लगाना चाहते हैं। यह 70 साल की समस्या है। इसके लिए उन्होंने पांच साल का समय मांगा था, लेकिन अब थोड़ा समय और दीजिए, अगले चुनाव तक यमुना साफ हो जाएगी। इसमें दिल्ली के लोगों की कोई गलती नहीं है।

उन्होंने कहा कि 10 अक्टूबर के बाद जो प्रदूषण बढ़ता है, वह पराली के धुएं से बढ़ता है। पंजाब के किसान कहते हैं कि दिल्ली पहुंचते-पहुंचते यह कम हो जाता है, लेकिन दिल्ली को तो नुकसान पहुंचाता है। दिल्ली ने इसका समाधान निकाला है, पंजाब सरकार, उत्तर प्रदेश सरकार क्यों नहीं करती ? पराली सोना बन सकती है। इससे बिजली, गत्ता और, कोयला बनता है। हनुमान चालीसा पढ़ने और अयोध्या जाने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या जाकर भगवान राम के दर्शन करके क्या उन्होंने कोई गलती की है ? क्या प्रभु रामचंद्र के दर्शन करना पाप है? हनुमान चालीसा का पाठ करना क्या अपराध है? उन्होंने कहा कि जब वह ऐसा करते हैं तो दूसरी पार्टी वाले उन्हें गाली देते हैं। भगवान राम का जीवन, उनसे प्रेरणा और उनका आचरण असली हिंदूत्व है।

तेज गति से नाव चलाकर खत्म किया झाग

यमुना नदी में प्रदूषण के कारण बने झाग को कम करने के लिए दिल्ली सरकार ने कवायद तेज कर दी है। बुधवार को दिल्ली सरकार ने यमुना के कालिंदी कुंज घाट पर नाव तैनात कर दीं। इन नाव को तेज गति से चलाकर झाग को किनारे करने के साथ ही पानी का छिड़काव करके भी झाग को कम किया जा रहा है। इस काम में दिल्ली सरकार के सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग, राजस्व विभाग और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति की टीम लगी हुई है। दो-दो नावों के बीच रस्सी बांधकर झाग को हटाया जा रहा है। हालांकि, इस बार दिल्ली में यमुना के घाटों पर छठ पूजा करने की अनुमति नहीं दी गई है। इसके बावजूद झाग की सफाई चल रही है।

कालिंदी कुंज बैराज पर नोएडा की तरफ वाले गेट खोलकर पानी को निकाला जा रहा है, इसलिए उस तरफ बड़ी मात्र में झाग बन रहा है। यह झाग दिल्ली न आए, इसके लिए दिल्ली सरकार की ओर से बांस की जाली लगा दी गई है। मौके पर मौजूद कर्मचारियों ने बताया कि बांस की जाली लगा देने से झाग उसमें फंसकर रुक जाएगा। हालांकि, कर्मचारियों का कहना है कि यह अस्थायी व्यवस्था है। बैराज में जिस तरफ पानी गिराया जाएगा, उधर झाग जरूर बनेगा।

यमुना में प्रदूषण के कारण बने झाग को हटाने के लिए जुटीं हुई हैं टीमें

राजधानी में बुधवार को करीब तीन महीने बाद कोरोना के 50 से ज्यादा नए मरीज मिले। संक्रमण दर बढ़कर 0.09 फीसद हो गई है। मंगलवार को संक्रमण दर 0.06 फीसद थी। संक्रमण दर बढ़ने से कोरोना के 54 नए मरीज मिले। साथ ही 15 मरीज ठीक हुए। सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर 388 हो गई है। पिछले 24 घंटे में 57 हजार 900 सैंपल की जांच हुई। राहत की बात यह है कि लगातार 17वें दिन भी कोरोना से किसी मरीज की मौत नहीं हुई। दिल्ली में कोरोना के अब तक कुल 14 लाख 40 हजार 230 मामले सामने आए हैं। PLC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here