Wednesday, February 26th, 2020

वैलेंटाइन डे - 14 फरवरी वैलेंटाइन डे पर विशेष

- ज्योति गुप्ता -

valentine day,article on valentine day,happy valentine day,valentine day love day"प्रेम"  बिना किसी दस्तक के ज़िन्दगी में दाखिल हो जाता है बगैर  यह देखे कि समाज के दरवाजे पर किस धर्म, जाति और उम्र की तख्ती लगी है। प्रेम जो सबसे सरल है और 'कॉम्प्लिकेटेड' भी, समर्पित है इसी प्रेम को फ़रवरी की 14 तारीख -- 'वैलेंटाइन डे'।

  जिसे  दुनिया भर में मनाया जाता है। अंग्रेजी बोलने वाले देशों में, ये एक पारंपरिक दिवस है जिसमें प्रेमी एक दूसरे के प्रति अपने प्रेम का इजहार ग्रीटिंग कार्ड, फूल, या उपहार आदि देकर करते हैं। ये छुट्टी की शुरुआत थी जिसे  क्रिश्चियन शहीदों में से दो, जिनके नाम वेलेंटाइन थे, के नाम पर रखा गया है।मध्य युग में, जब सभ्य प्रेम की परंपरा पनप रही थी,  इस दिवस का सम्बन्ध रूमानी प्रेम के साथ हो गया।

ये दिन प्रेम पत्रों के "वेलेंटाइन" के रूप में पारस्परिक आदान प्रदान के साथ गहरे से जुड़ा हुआ है। आधुनिक वेलेंटाइन के प्रतीकों में शामिल हैं दिल के आकार का प्रारूप, कबूतर और पंख वाले क्यूपिड का चित्र.19वीं सदी के बाद से, हस्तलिखित नोट्स की जगह बड़े पैमाने पर बनने वाले ग्रीटिंग्स कार्ड ने ले ली है। ग्रेट ब्रिटेन में उन्नीसवीं शताब्दी में वेलेंटाइन का भेजा जाना एक फैशन था।

युवाओं में अत्यधि लोकप्रिय वैलेंटाइन डे, इन दिनों प्रेमी प्रेमिका के रिश्तों से यह दिवस आगे बढ़ कर प्रेम के अन्य रूपों जैसे- दोस्त या पारिवारिक सदस्य, को भी अपना चूका है । दोस्त को पीले फूल दे कर यह वैलेंटाइन डे सेलिब्रेट किया जा रहा है और 14 फ़रवरी अब वैश्विक तौर पर मनाया जाने लगा है।

तोहफों में आमतौर पर शामिल होता है, गुलाब और चॉकलेट को लाल साटन में पैक कर के एक दिल के आकार वाले डिब्बे में देना.1980 के दशक में, हीरा उद्योग ने गहने देने के लिए एक अवसर के रूप में वेलेंटाइन दिवस को बढ़ावा देना शुरू  किया। एक सघन विपणन प्रयास की वजह से, वेलेंटाइन दिवस कुछ एशियाई देशों में भी मनाया जाता है। इस सहस्राब्दी की शुरुआत पर इंटरनेट लोकप्रियता की वृद्धि नई परम्पराएँ पैदा कर रही है। हर साल लाखों लोग वेलेंटाइन दिवस की शुभकामना संदेशों को बनाने और भेजने के लिए डिजिटल तरीकों, जैसे की ई-कार्ड, प्रेम कूपन और छपने योग्य ग्रीटिंग कार्ड अदि, का इस्तेमाल करते हैं।

वैलेंटाइन डे महिलाओं के बीच भी उतना ही लोकप्रिय है, लेकिन जब उपहार के लिए सवाल जेब ढीली करने का हो तो वे पुरुषों से थोड़ा पीछे रहती हैं। पुरुष महिलाओं से ज्यादा आगे रहते हैं। एक दिलचस्प अध्ययन में यह बात सामने आई है। वैसे अब वैलेंटाइन सप्ताह की शुरुआत हो चुकी है। 7 फरवरी से शुरू यह सप्ताह 14 फ़रवरी को अपने चरम पर होता है। माना जाता है प्रेम अँधा होता है फिर यह दौर तो बाज़ार का है जँहा प्रेम भी वस्तु तुल्य परोसा जा रहा है, यहाँ प्रेम के नाम से प्रचलित खोटे सिक्के भी हैं।

आप जब प्रेम में होते हैं कई ख्वाहिशें खुद-ब-खुद दिल में घर बना लेती हैं और सजा लेती हैं एक आसमान। ख्वाहिशों का यह आसमान सजाने से पहले यह जरूर सोचना चाहिए कि हर ख्वाहिश पूरी हो यह मुमकिन  नहीं, चाहे वह प्रेम की ही क्यों ना हो। मशहूर शायर निदा फ़ाज़ली जी का एक शेर है --- कभी किसी को मुक्कमल जंहा नहीं मिलता/ कंही जमीं तो कंही आसमां नहीं मिलता। प्रेम प्रयोजनहीन हो तो प्रेम में कोई अपराध भी नहीं होगा  न किसी तरह की हिंसा ।

प्रेमिल हो जाएँ हम सब स्वभाव से तो विश्व और भी सुन्दर हो जाए।कुछ नहीं तो प्रकृति प्रेमी ही हो जाएँ, वसंत की चंचल हवा को  वृक्ष की छाया में लेटकर रगों में दौड़ने दें। लता के पत्तों का जो हरा तजा टटका रंग है, उतर जाने दें उसे धड़कन की  लय में और मुट्ठी में मिट्टी बिखेर कर प्रकृति हो जाएँ।

______________________________
Poetess-jyoti-gupta-jyoti-gupta-Poetess-Poetess-jyoti-gupta-परिचय – :
 ज्योति गुप्ता
लेखिका व् कवयित्री
________________
लेखन - : अख़बार, पत्रिका, ई-पत्रिका में
_______________________________
            संपर्क- निवास– बोरिंग रोड, पटना , E-mail – :  jtgupta9@gmail.com ,  Mob- : 9572418078

_________________________

इस लेख के विचार लेखिका के पूर्णत: निजी हैं , एवं  इंटरनेशनल न्यूज़ एंड व्यूज डॉट कॉम और आई एन वी सी न्यूज़ डॉट कॉम  इसमें उल्‍लेखित बातों का न तो समर्थन करता है और न ही इसके पक्ष या विपक्ष में अपनी सहमति जाहिर करता है। इस लेख को लेकर अथवा इससे असहमति के विचारों का भी इंटरनेशनल न्यूज़ एंड व्यूज डॉट कॉम  और आई एन वी सी न्यूज़ डॉट कॉम  स्‍वागत करता है । आप लेख पर अपनी प्रतिक्रिया  ssc@internationalnewsandviews.com या newsdesk@invc.info  पर भेज सकते हैं। ( पोस्‍ट के साथ अपना संक्षिप्‍त परिचय और फोटो भी भेजें।)

Comments

CAPTCHA code

Users Comment

अंजनी कुमार, says on February 14, 2016, 6:44 PM

बेहतरीन लेख ज्योति जी...!!!

kumari sandhya, says on February 14, 2016, 1:01 PM

Jai hind jyoti ji

रमण श्रीवास्तव, says on February 14, 2016, 11:23 AM

आज का आपका लेख प्यार करने वालों के लिए समर्पित देख और पढ़ कर बहुत अच्छा लगा और आपके लेख में वैलेंटाइन के बारे में बहुत सी जानकारी मिली | आपको वैलेंटाइन डे कि हार्दिक बधाई .....