Close X
Friday, January 28th, 2022

जहरीली और जानलेवा हवा का कहर जारी

राजधानी दिल्‍ली और आसपास के इलाकों में दिवाली के दिन चलाए गए पटाखों के बाद बढ़ा वायु प्रदूषण  अभी भी कहर ढाह रहा है. सोमवार सुबह भी दिल्ली-एनसीआर में सांस लेना मुश्किल बना हुआ है. जबकि हवा की गुणवत्ता  भी ‘ बेहद खराब’ श्रेणी में बनी हुई है. दिल्ली के अधिकतर इलाकों में वायु गुणवत्ता सूचकांक यानी AQI 500 के करीब बना हुआ है. वहीं, गाजियाबाद के लोनी में AQI 552 और नोएडा के सेक्‍टर 62 में 631 दर्ज किया गया है. वैसे शुक्रवार को दिल्‍ली-एनसीआर के अधिकांश इलाकों में AQI 999 था.बता दें कि पटाखों पर बैन के बाद भी दिवाली की रात दिल्‍ली में जमकर आतिशबाजी हुई थी. रही सही कसर पंजाब और हरियाणा में किसानों ने पराली जलाकर पूरी कर दी. इस वजह से पिछले चार दिन से दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में धुंध की मोटी परत छाई हुई है. मौसम विभाग के मुताबिक, अगले कुछ दिन में धुंध से राहत मिलने की उम्‍मीद है.


दिल्‍ली में आनंद विहार में सबसे बुरे हालात हैं और यहां AQI 559 दर्ज किया गया है. इसके अलावा झिलमिल में 550, अलीपुर में 482, वजीरपुर में 480, नरेला में 450, जहांगीरपुरी में 491,सोनिया विहार में 456 समेत कई इलाकों में यह 450 से ऊपर बना हुआ है. जबकि गाजियाबाद के लोनी में AQI 571, वसुंधरा में 537, संजय नगर में 521 बना हुआ है. अगर नोएडा की बात करें तो सेक्‍टर 62 में 631, सेक्‍टर 116 में 462 समेत अधिकांश इलाकों मे यह 400 प्‍लस है. वहीं, ग्रेटर नोएडा में AQI 400 के करीब चल रहा है. वहीं, फरीदाबाद और गुरुग्राम की भी हवा खराब हैं और यहां एक्‍यूआई 400 के करीब बना हुआ है.उल्लेखनीय है कि वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) शून्य से 50 के बीच ‘अच्छा’, 51 से 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 से 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 से 300 के बीच ‘खराब’, 301 से 400 के बीच ‘बेहद खराब’ और 401 से 500 के बीच ‘गंभीर’ माना जाता है. PLC

Comments

CAPTCHA code

Users Comment