राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच की राजनैतिक अदावत के कारण बहुप्रीतिक्षत संगठन में नियुक्तियों और सरकार में फेरबदल की घड़ी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के दिल्ली लौटने के बाद लगता है नजदीक आ गई है खुद मुख्यमंत्री ने कहा है कि राहुल गांधी के विदेश दौरे से लौटने के पश्चात राज्य की राजनीति पर चर्चा के उपरांत ही संगठन और सरकार में फेरबदल सुनिश्चित होगा।
विश्वस्त सूत्रों की माने तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश प्रभारी अजय माकन मंत्रिमंडल विस्तार, फेरबदल राजनीतिक नियुक्तियों को फाइनल टच देने के लिए राहुल गांधी के साथ भी चर्चा करेंगे इसके लिए अभी राहुल गांधी के विदेश से लौटने का इंतजार है। पार्टी सूत्रों की माने तो विदेश दौरे पर गए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी अगले सप्ताह विदेश से दिल्ली लौट सकते हैं, जिसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी राहुल गांधी से मुलाकात के लिए दिल्ली जा सकते हैं। जहां पर राहुल गांधी के साथ मुख्यमंत्री गहलोत, प्रदेश प्रभारी अजय माकन, पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री केसी वेणुगोपाल की बैठक हो सकती है, जिसमें राजनीतिक नियुक्तियों और मंत्रिमंडल विस्तार को हरी झंडी दी जाएगी और उसके बाद ही प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों का रास्ता साफ होगा। प्रदेश प्रभारी अजय माकन राहुल गांधी से फाइनल चर्चा के संकेत पूर्व में दे चुके हैं। ऐसे में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ होने वाले संभावित बैठक को मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों के लिहाज से काफी अहम माना जा रहा है। दऱअसल राजनीतिक नियुक्तियों और मंत्रिमंडल विस्तार को भले ही कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सहमति मिल गई हो लेकिन पार्टी में तमाम फैसले पर्दे के पीछे राहुल गांधी ही लेते हैं। ऐसे में कांग्रेस गलियारों में चर्चा भी यही है कि जब तक मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों को लेकर राहुल गांधी से चर्चा नहीं होती तब तक प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियां का रास्ता नहीं खुलेगा इतना जरूर है कि अब जो कांग्रेसी और विधायक संगठन में पद और सरकार में विधायक मंत्री बनना चाह रहे थे  उन्हें अब ज्यादा इंतजार नहीं करना पडेगा। PLC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here