देश में कोरोना महामारी के खिलाफ तेजी से हो रहे कोविड वैक्सीनेशन के बीच एक और राहत की खबर आई है. अब टीके के साथ-साथ, कोरोना की रोकथाम के लिए जल्द ही टेबलेट भी मिलने लगेगी. काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (CSIR) में कोविड स्ट्रेटेजी ग्रुप के चीफ ने गुरुवार को एक न्यूज़ चैनल को कहा की से कहा कि अमेरिका की फॉर्मा कंपनी Merck’s द्वारा विकसित एंटी कोविड पिल मोलनुपिराविर (Molnupiravir) को इमरजेंसी यूज के लिए मंजूरी मिल सकती है. 700 मरीजों पर इस दवा के प्रयोग का डेटा सबमिट किया जा चुका है.
देश और दुनिया में कोविड-19 महामारी के खिलाफ जारी जंग के बीच डॉ राम विश्वकर्मा ने इस दवा को गेम चेंजर बताया है. उन्होंने कहा कि अमेरिकी फॉर्मा कंपनी मर्क, वॉलेंट्री लाइसेंसिंग एग्रीमेंट के साथ 8 भारतीय दवा निर्माताओं सिप्ला, डॉ रेड्डी लेबोरेट्री, सन फॉर्मा, हेटेरो, ओरोबिंदो फॉर्मा और अन्य कंपनियों के साथ मिलकर इसके निर्माण पर काम कर रही है. इनमें से कुछ दवा निर्माताओं ने लेट स्टेड क्लिनिकल ट्रायल को पूरा करके मंजूरी के लिए डेटा ड्रग रेग्युलेटर को सौंप दिया है.CSIR में कोविड स्ट्रेटेजी ग्रुप के चीफ डॉ राम विश्वकर्मा ने कहा कि, “मोलनुपिराविर (Molnupiravir) उन 24 मॉलेक्यूलस में से एक थी जिसे इंस्टीट्यूट ने कोविड-19 के खिलाफ इलाज के लिए चुना गया था. वहीं CSIR के 3 इंस्टीट्यूट ने इस दवा के निर्माण के लिए जरूरी प्रोसेस और टेक्नोलॉजी को विकसित कर लिया है, जिसे हम भारतीय फॉर्मा कंपनियों के साथ साझा करने के लिए तैयार हैं ताकि भारत में इस दवा के उत्पादन की क्षमता को बढ़ाया जा सके.”

डॉ विश्वकर्मा ने Merck और Pfizer की एंटी कोविड19 पिल को बड़ी कामयाबी बताया है. उन्होंने कहा कि मोलनुपिराविर (Molnupiravir) का क्लिनिकल डेटा, ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) को सौंप दिया गया है और जल्द ही इसकी मार्केटिंग अनुमति की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि, ब्रिटेन के रेग्युलेटर इस दवा को पहले ही मंजूरी दे चुके हैं. इसलिए अब हमारे पास ग्लोबल और लोकल दोनों डेटा विचार करने के लिए उपलब्ध है. मुझे उम्मीद है कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) जल्द ही इस दवा को मंजूरी देकर इसे भारतीय मरीजों के लिए उपलब्ध कराएंगे. 700 मरीजों पर इस दवा के प्रयोग का डेटा पहले ही रेग्युलेटर को विचार करने के लिए सौंपा जा चुका है. यह एंटीवायरल दवा कोविड-19 के हल्के और मध्यम लक्षणों से पीड़ित वयस्कों के इलाज के लिए होगी. PLC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here