Saturday, July 4th, 2020

टिहरी बनेगा आदर्श वॉटर स्पोर्ट्स डेस्टिनेशन

आई एन वी सी न्यूज़ देहरादून ,

उत्तरखंड की टिहरी जनपद में स्थित राजीव गांधी राष्ट्रीय साहसिक अकादमी टिहरी में विभिन्न वाटर स्पोर्ट्स के संचालन हेतु पर्यटन मंत्रालय भारत सरकार की  मान्यता प्राप्त संस्थान एन आई डब्लू एस के साथ एक मेमोरेंडम आफ अंडरस्टैंडिंग पर हस्ताक्षर किए गए. एमओयू के अनुसार एन आई डब्ल्यू  एस के  सुप्रशिक्षित इंस्ट्रक्टरों द्वारा राजीव गांधी सहायक अकादमी टिहरी में आगामी सत्र में वॉटर स्कीइंग, जेट  स्कीइंग पैरासेलिंग, विंड सर्फिंग, लाइफ सेविंग टेक्निक्स, स्कूबा डाइविंग के प्रशिक्षण सहित मोटरबोट के इंजन की मरम्मत और वाटर रेस्क्यू ऑपरेशन संबंधी आवश्यक प्रशिक्षण  प्रदान किया जाएगा.

सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर ने कल यह जानकारी देते हुए बताया कि टिहरी को एक आदर्श वॉटर स्पोर्ट्स डेस्टिनेशन बनाने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम है. उन्होंने कहा कि स्थानीय युवाओं को  टिहरी स्थित राजीव गांधी साहसिक अकादमी में वाटर स्कीइंग, रिमोट कंट्रोल पावर बोट नियंत्रण, जेट स्कीइंग, पैरासेलिंग, विंड सर्फिंग आदि खेलों का प्रशिक्षण योग्य प्रशिक्षकों द्वारा दिया जाएगा जिससे स्थानीय रोजगार में वृद्धि होगी. ऐसा हो जाने के पश्चात टिहरी में पर्यटन गतिविधियों का संचालन और अधिक  सक्षमता से किया जा सकेगा. उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त अकादमी में वाटर स्पोर्ट्स प्रशिक्षकों के भी कोर्स चलाए जाएंगे ताकि भविष्य में वह राज्य के भीतर ही आने वाली पीढ़ियों को इस विधा में प्रशिक्षित कर सकें.

ज्ञातव्य है कि एनआईडब्लूएस वाटर स्पोर्ट्स का प्रशिक्षण देने वाली एक अग्रणी संस्था है जो विभिन्न वाटर स्पोर्ट्स के लिए आवश्यक पाठ्यक्रम का संचालन  तो करती ही है साथ ही जीवन रक्षक तकनीकों का भी प्रशिक्षण प्रदान करती है. एनआईडब्ल्यूएस के द्वारा रिवर गाइड, ट्रेनर, लाइफगार्ड आदि का प्रशिक्षण भी करवाया जाता है. राज्य में वाटर स्पोर्ट्स का उच्चस्तरीय  प्रशिक्षण  प्राप्त  होने की दशा में  यह राज्य के युवाओं के दक्षता विकास में  एक महत्वपूर्ण प्रयास होगा.

एमओयू के अनुसार एन आई डब्ल्यू एस द्वारा विभिन्न पाठ्यक्रमों  हेतु आवश्यक प्रशिक्षक, फैकल्टी तथा ट्रेनिंग स्टाफ उपलब्ध कराया जाएगा. प्रशिक्षण अवधि में वाटर स्पोर्ट्स की विभिन्न विधाओं से संबंधित लिखित एवं प्रायोगिक प्रशिक्षण चयनित अभ्यर्थियों को उपलब्ध कराया जाएगा.  प्रशिक्षण गतिविधियों के संचालन हेतु आवश्यक व्यवस्थाएं उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद  द्वारा जाएंगी.




 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment