सिनेमा वो एक शस्त्र है जिसका प्रयोग युद्ध का परिणाम तय करता है एस एस राजा

आई एन वी सी न्यूज़  
नई  दिल्ली ,

एस एस राजा ( फिल्म निर्माता और निर्देशक ) कभी डाकुओं के खौफ के किस्सों और दस्तानों को बयां करने वाली चंबल घाटी अब कला और सिनेमा की इबारत लिखने का कार्य कर रही है। एक दशक पहले जिस धरती पर पकड़ ,फिरौती और लूट के शब्द गुँजते थे, आज वहाँ लाइट, कैमरा, एक्शन के शब्द गूंज रहें है।

 

इस समय एक साथ मुंबई से आई  प्रोडक्सन हाउस  की टीम वेब सीरिज की शूटिंग चंबल क्षेत्र में कर रही हैं। जी एस मीडिया एंड फिल्म क्रियेशन की साइको थ्रिलर वेब सीरीज  आवारगी की शूटिंग  इटावा और औरैया के महत्वपूर्ण, और दर्शनीय लोकेशंस पर हो रही हैं। एम एक्स प्लेयर की वेब सीरिज आवारगी के निर्देशक एस एस राजा से हमारी चंबल और   और यूपी में सिनेमा के भविस्य के साथ साथ उनकी आगामी वेब सीरिज आवारगी पर विस्तार से चर्चा हुयी।

 

वेब सीरीज आवारगी की शूटिंग के लिए जंगल कुछ दृश्य विश्नोई नर्सरी एंड हार्टिकल्चर बिरुहनी रोड पर अजीतमल कोतवाली के पीछे और इटावा की नुमाइश में फिल्माए गए एस एस राजा ने बताया कि उनका लक्ष्य असली कलाकार की खोज और उस खोज से आम दर्शकों से रूबरू कराने के साथ – साथ आम अवाम के कंटेंट को पेन इंडिया मंच प्रदान करवाना है। एस एस राजा ने बताया कि आवारगी वेब सीरिज में मुंबई के कलाकारों के साथ इटावा और औरिया के कलाकार मुख्य भूमिकाओं में कार्य करते हुए दिखाई देंगें। आवारगी वेब सीरीज में औरैया के विवेक राज, गरिमा पोरवाल, जब्बर सिंह, राजेश सोनी, वीरेंद्र सेंगर एस पी राणा ,अमित तिवारी, प्रमुख भूमिकाओं में  दिखाई देंगे ।  

जबकि इटावा से संदीप यादव,गौरव पोरवाल, प्रताप सिंह भदोरिया ,गोविंद तोमर  नमिता त्रिपाठी,  गोविंद यादव,सचिन वारसी आवारगी में प्रमुख्य किरदारों में नजर आयेंगे। आवारगी में हेमन्त जोशी,  सलमान राज, विजय मिश्रा, मनोज बख्शी, नवल शुक्ला, जय भारत  जैसे बोलीवुड अभिनेता भी आवारगी वेब सीरिज में मुख्य किरदारों में नजर आएंगे। वेब सीरीज को जी एस मीडिया एंड फिल्म कियेशन और धर्मेंद्र सिंह राजावत, प्रोड्युस कर रहे हैं, अनुष्का दुबे  आवारगी वेब सीरीज की  कार्यकारी निर्माती हैं। जबकि  सनी दर्शन सह कार्यकारी  निर्माता हैं  ।

फिल्म निर्देशक एस एस राजा जो कि उत्तर प्रदेश मोशन पिक्चर एसोशिएसन के ज्वॉइंट सेक्रेटरी हैं उन्होंने बताया कि हमारी एसोसिएशन का मकसद ही उत्तर प्रदेश को सिनेमा का हब बनाना है, और हमारी एसोसिएशन इस मकसद में काफी हद तक कामयाब होती दिख रही है। ये संस्था की कामयाबी ही है कि मुंबई के निर्माता निर्देशक चंबल जैसे अल्प विकसित एरिया में आकर सिनेमा को यथार्थ का रूप दे रहे हैं। एस एस राजा ने बताया कि सिनेमा वो एक शस्त्र है जिसका प्रयोग युद्ध का परिणाम तय करता है, चम्बल में सिनेमा उपेक्षा का दंश झेल रहे चम्बल को विकास का नया आयाम दिखा सकता है टूरिज्म और कई और उधोग चंबल की सूरत सुधार सकते हैं, चंबल के प्रतिभाशाली युवाओं को रोजगार और हुनर के लिए नये अवसर पैदा करेगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here