writer with artical

कोई वजह नजर नहीं आती, कानून और अदालतों को सैक्यूलर मानने की

*विरोधाभासों के 'भंवरं' में नरेंद्र मोदी