ram in chitrakoot

रामनवमी विशेष : मंदाकिनी रूठी, तो क्या रूठ नहीं जायेंगे श्रीराम ?