dr.dpsharma

ग़ज़ल : मेरे शहादत की भी अफवाह उड़ा दो यारो।।