संगोष्ठी को हरिप्रसाद

लोक कलायें मनुष्यता को बचाने का काम करती हैं : बलदेव शर्मा