प्रो० कप्तान सिंह सोलंकी

जहां मानव अधिकार सुरक्षित नहीं, वहां विकास एवं सुरक्षा दोनों ही सुरक्षित नहीं हो सकते : प्रो० कप्तान सिंह सोलंकी

आज समारोह में बच्चों के चेहरे देखने से महसूस हो रहा है कि सेवा भारती का उद्देश्य पूरा हो रहा है : प्रो० कप्तान सिंह सोलंकी