धूम्र

बारहवीं कहानी -: धुंध