दिल से

Prasoon Joshi pens an emotional poem for Femina’s initiative

बीते समय पर पछताना एकदम व्यर्थ

तुम कितना कमा लेते हो  - उसे किस तरह बांटते हो ?