डॉ. मंसूर खुशतर शायर

डॉ. मंसूर खुशतर की पांच गज़ले