जावेद अनीस लेखक

अपने पैरों पर खड़ी कमलनाथ सरकार

भारतीय राजनीति का मौजूदा पैटर्न ?

गुरिल्ला इमरजेंसी के दौर में मीडिया मध्यप्रदेश की कहानी

शिवराज को दिग्विजय पसंद हैं

शिवराज सरकार की हिटलरशाही

सरकारी खजाने से चुनावी यात्रा का औचित्य

कंपनियों के कब्जे में बच्चों का पोषण आहार

मिशन 2019 से पहले 2018 की चुनौती

क्या उज्ज्वला योजना अपने मकसद में कामयाब हो पायी है ?

भारत में अंतर्राष्ट्रीय बाल अधिकार समझौते के 25 साल

टूटता खुमार ?

शिवराज सिंह चौहान और मिशन 2018 का राजनीतिक बजट

यह दक्षिण एशिया की सदियों पुराने सोच पर हमला है

Valentine Day Special - ये इश्क़ नहीं आसाँ ,बस इतना समझ लीजे .....

फिल्म समीक्षा - “अलिफ़” के अधूरे सबक

भूटान: सादगी का वैभव

मोदी सरकार का “कांग्रेसी” बजट ?

चुनावी राजनीति बनाम भारतीय लोकतंत्र

शिवराज के ग्यारह साल

तीन तलाक,समान नागरिक संहिता और मोदी सरकार

“मामा राज” में कुपोषण का काल

सर्जिकल स्ट्राइक, सेना और सियासत

शिक्षा बनाम लूट का मकड़जाल

गौरक्षा बनाम दलितों और अल्पसंख्यकों पर हमले

बाल श्रम कानून में बदलाव पर सवाल

धुवाँ उगलते शहर

उदारीकरण के दौर में मजदूर

निजीकरण के दौर में सरकारी स्कूल

डॉक्टरों की कमी से जूझता देश

अब जरूरत “इंडियन पानी लीग” की है