Aqua-full-water-throughout-आई एन वी सी न्यूज़
प्रतापगढ़,

मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान में बने जल सरंक्षण ढांचे किस प्रकार किसानों को सीधा लाभ पहुंचा रहे हैं, प्रतापगढ़ जिले के धरियावद ब्लॉक की झड़ोली पंचायत के पाटला बावड़ी गांव में बनी एमपीटी इसका स्पष्ट उदाहरण है। महज एक लाख पांच हजार रुपए की लागत से बनी इस एमपीटी के चलते पास के कुए में साल भर तक पर्याप्त पानी मौजूद रहा।
एमपीटी के नजदीक ही रहने वाले किसान बद्री, अर्जुन, देवली आदि ने अपने खेत में एक कच्चा कुआ बना रखा है, जिसका पानी वे मवेशियों को पिलाने, नहाने-धोने के साथ-साथ सिंचाई में भी काम लेते हैं। हर साल गर्मियों में इस कुए का पानी काफी गहरा चला जाता है। एमजेएसए के प्रथम चरण में यहां जलग्रहण विभाग की ओर से मिनी परकोलेशन टैंक का निर्माण कराया गया। एमपीटी के निर्माण के बारिश के दौरान भरपूर पानी का संग्रहण व संरक्षण हुआ तथा भूजल का स्तर भी सुधरा। इस एमपीटी के कारण पास ही बने कुए में पानी की कमी नहीं आई और पूरे साल आठ-दस फीट  की गहराई पर पानी उपलब्ध होता रहा। वे कहते हैं कि इस प्रकार के स्ट्रक्चर किसानों के लिए बहुत फायदे की चीज हैं।
जलग्रहण अधीक्षण अभियंता श्री जीएल रोत ने बताया कि धरियावद ब्लॉक में ऐसे अनेक एमपीटी का निर्माण किया गया है। एमपीटी में इकट्ठा हुआ पानी तात्कालिक तौर पर तो आसपास के लोगों, जानवरों की जरूरतों को पूरा करता ही है, जमीन में रिसकर जाने वाला पानी भूजल स्तर को बढ़ाता है। इससे आसपास के लोगों को खूब फायदा मिलता है। वे बताते हैं कि एमजेएसए के दूसरे चरण में भी बड़ी संख्या में एमपीटी निर्माण हुआ है, जिसका फायदा स्थानीय लोगों को मिलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here