Close X
Saturday, November 27th, 2021

सावरकर मुसलमानों के दुश्मन नहीं थे और उन्होंने उर्दू में ग़ज़लें लिखी थीं

केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने बुधवार को कहा कि सावरकर को "खलनायक" के रूप में पेश करने वाले छद्म धर्मनिरपेक्ष सिंडिकेट के एक समूह का पर्दाफाश हो गया है। नकवी ने कहा आजादी के बाद, एक छद्म-धर्मनिरपेक्ष सिंडिकेट समूह का गठन किया गया, जिसने अपने व्यक्तिगत हित और साजिश के कारण समाज में कई नायकों को खलनायक के रूप में प्रस्तुत किया उन्होंने कहा "वीर सावरकर भी उन नायकों में से थे और उनके लिए समाज के एक वर्ग, मुख्य रूप से मुसलमानों के बीच नफरत पैदा की गई थी। मैंने वीर सावरकर को देखा है। उनकी जीवनी पढ़ी है। मैंने सेलुलर जेल में उनके बलिदानों के बारे में पढ़ा है। उनके साथ उनके कई समर्थक जेल में थे। ज्यादातर मुसलमान थे। केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि कांग्रेस के एक मंत्री ने पहले सावरकर की तस्वीर को सांप्रदायिक कहकर सेल्युलर जेल से बाहर निकालने का आदेश दिया था। उन्होंने कहा, "हमने भी विरोध किया था। सावरकर को खलनायक के रूप में पेश करने वाले छद्म धर्मनिरपेक्ष सिंडिकेट समूह का आज पर्दाफाश हो गया है।" पुस्तक के विमोचन पर बोलते हुए, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सावरकर के बारे में झूठ फैलाया गया था कि उन्होंने ब्रिटिश सरकार के समक्ष दया याचिका दायर कर उनकी जेल से रिहाई की मांग की थी। उन्होंने कहा, "यह महात्मा गांधी थे जिन्होंने उनसे दया याचिका दायर करने के लिए कहा था। कल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने भी कहा था कि सावरकर मुसलमानों के दुश्मन नहीं थे और उन्होंने उर्दू में ग़ज़लें लिखी थीं। PLC

Comments

CAPTCHA code

Users Comment