एकादशी तिथि का बहुत अधिक महत्व होता है। ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को निर्जला एकादशी के नाम से जाना जाता है। निर्जला एकादशी का महत्व सभी एकादशी में सबसे अधिक होता है। एकादशी तिथि भगवान विष्णु को अतिप्रिय होती है। इस दिन विधि- विधान से भगवान विष्णु की पूजा- अर्चना की जाती है। हिंदू पंचांग के अनुसार हर माह में दो बार एकादशी पड़ती है। साल में कुल 24 एकादशी पड़ती है।

कब है निर्जला एकादशी : इस साल 10 जून, 2022 को निर्जला एकादशी का व्रत रखा जाएगा।

नियम : निर्जला एकादशी के व्रत में पानी का सेवन भी नहीं किया जाता है। इस दिन जल का त्याग करना होता है।

फल : निर्जला एकादशी का व्रत रखने से सालभर की एकादशी व्रत का फल मिल जाता है।

निर्जला एकादशी पूजा-विधि : सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं।घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।भगवान विष्णु का गंगा जल से अभिषेक करें।भगवान विष्णु को पुष्प और तुलसी दल अर्पित करें।अगर संभव हो तो इस दिन व्रत भी रखें।भगवान की आरती करें। भगवान को भोग लगाएं। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है। भगवान विष्णु के भोग में तुलसी को जरूर शामिल करें।

ऐसा माना जाता है कि बिना तुलसी के भगवान विष्णु भोग ग्रहण नहीं करते हैं। इस पावन दिन भगवान विष्णु के साथ ही माता लक्ष्मी की पूजा भी करें। इस दिन भगवान का अधिक से अधिक ध्यान करें।
निर्जला एकादशी महत्व : इस पावन दिन व्रत रखने से सभी तरह के पापों से मुक्ति मिल जाती है। इस व्रत को करने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार एकादशी का व्रत रखने से मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है।

10 जून 2022 शुक्रवार को ज्येष्ठ शुक्ल दशमी प्रात: 7.27 बजे तक उपरांत एकादशी तिथि प्रारंभ होगी। 11 जून 2022, शनिवार को ज्येष्ठ शुक्ल एकादशी प्रात: 5.46 बजे तक पश्चात द्वादशी रात्रि 3.24 बजे तक उपरांत त्रयोदशी। निर्जला एकादशी व्रत सबका। द्वादशी तिथि क्षय। 10 व 11 जून दोनों दिन एकादशी तिथि पहुंचने के कारण व्रत दोनों दिन रखा जा सकेगा। हालांकि निर्जला एकादशी व्रत 11 जून, शनिवार को करना उत्तम व फलदायी रहेगा।

एकादशी पूजा सामग्री लिस्ट : श्री विष्णु जी का चित्र अथवा मूर्ति, पुष्प,नारियल ,सुपारी,फल,लौंग,धूप ,दीप, घी , पंचामृत , अक्षत , तुलसी दल , चंदन , मिष्ठान PLC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here