काला मोती : शनि और राहू के कष्टों से मुक्ति मिलती है

स्वाति नक्षत्र में जब कोई बरसात या ओस की एक बूँद की सीप में गिरती हैं तो उत्तम क्वालटी का मोती बनती हैं , आपने सफ़ेद मोती के बारे में बहुत सुना होगा जो की सीधा चंदमा का रत्न होता हैं पर आपको पता हैं की काला मोती पैदा तो सीप में होता हैं पर यह चंदमा प्रतिनिधितव नहीं करता हैं बल्कि काला मोती शनि का प्रतीक माना जाता है, राहु का भी समावेश होता है. काले धागे में काला मोती धारण करने के चमत्कारी परिणाम होते हैं।

इसको धारण करने से नजर नहीं लगती, शनि का महादशा और साढेसाती के कष्टों से मुक्ति मिलती है. काला मोती धारण करने से हर मनोकामना पूरी होती है, शत्रुओं का भय नहीं रहता है।

काला मोती मोती 3 दिन में अपना चमत्कार दिखाता हैं बशर्त काला मोती बसरा का होना चाहिए। अगर आपकी कोई मनोकामना हैं. जिसे आप लंबे समय से पाना चाहते हैं. लेकिन पा नहीं पाते हैं. तो ऐसी मनोकामना पूर्ति के लिए काला मोती आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार काला मोती व्यक्ति की सभी प्रकार की मनोकामना पूर्ण करता हैं।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कई बार जातक की कुंडली पर शनिदेव का बुरा प्रकोप तथा साढ़ेसाती लग जाती हैं. तो ऐसी स्थिति में कई बार जातक को काफी कष्टों का सामना करना पड़ता हैं. उनके जीवन में शनि के बुरे प्रकोप के कारण कई समस्या उत्पन्न हो सकती हैं. शनिदेव के बुरे प्रकोप से उत्पन्न हुई कष्ट के निवारण के लिए काला मोती धारण करना फायदेमंद होता हैं. क्योंकि काला मोती शनिदेव का प्रतीक माना जाता हैं. और इसे धारण करने से शनि महाराज प्रसन्न होते ही साथ राहू की कृपया बरसती हैं।

काले मोती को कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी की संध्या में धारण करने से विशेष लाभ प्राप्त होता हैं। कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी की संध्या में धारण करने से भगवान् शिव के साथ सम्पूर्ण शिव परिवार का आशीर्वाद भी प्राप्त होता हैं



कृपया ध्यान दे : यह सिर्फ जानकारी मात्र हैं काला मोती धारण करने से पहले विशेषज्ञों की राय अवशय ले।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here