पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी  के नेतृत्व में एक जत्था आज करतार गुरद्वारा साहिब  जाएगा. उनके साथ उनके कई मंत्रियों, विधायकों के साथ कुछ अधिकारी भी जाएंगे. लेकिन पंजाब कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू इस जत्थे में शामिल नहीं होंगे. वह 20 नवंबर यानी शनिवार को अपना जत्था लेकर करतारपुर जाएंगे. सिद्धू ने करतारपुर जाने के लिए मंगलवार को आवेदन किया था. रिपोर्ट के मुताबिक आज चन्नी के साथ करीब 100 लोग ऐतिहासिक करतापुर जाएंगे. चन्नी की यह यात्रा गुरुपर्व से एक दिन पहले हो रही है. सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव के जन्मदिन को गुरुपर्व के रूप में मनाया जाता है.

गुरुनानक देव ने करतारपुर में ही अपना अंतिम समय बिताया था. अब करतारपुर पाकिस्तान में है. यहां पर गुरद्वारा दरबार साहिब है. यह सिख धर्म के एक बेहद पवित्र स्थल है. यहां जाने के लिए ही करतारपुर कॉरिडोर बनाया गया है. इसे कल यानी बुधवार को ही खोला गया था. यह एक वीजा फ्री कॉरिडोर है. यानी यहां जाने के लिए भारतीय नागरिकों को वीजा लेने की जरूरत नहीं पड़ती. बुधवार को एक 28 सदस्यीय जत्थे ने यहां का दौरा किया था. इसमें पंज प्यारे शामिल थे. ये लोग कल सुबह 11 बजे पाकिस्तान में दाखिल हुए थे.
 पंजाब में अगले साल के शुरू में होने जा रहे विधानसभा चुनाव को देखते हुए सभी पार्टियों में करतारपुर साहिब जाने की होड़ लगी हुई है. गुरुवार को भाजपा का एक प्रतिनिधिमंडल भी करतापुर साहिब जाने वाला है. आम आदमी पार्टी का भी एक प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को करतारपुर साहिब जाएगा. PLC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here