मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवालने बताया कि करीब एक हजार तीर्थ यात्रियों के साथ पहला जत्था तीन दिसंबर को अयोध्या के लिए रवाना होगा। इससे पहले पिछले महीने दिल्ली कैबिनेट में अयोध्या को योजना में शामिल करने से जुड़े प्रस्ताव को मंजूर किया था।

दिल्ली सरकार कोविड काल में बंद पड़ी मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना को एक बार फिर शुरू करने जा रही है। इसका एलान बुधवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए किया। इस दौरान उन्होंने दो बड़ी घोषणाएं कीं। उन्होंने बताया कि अब यात्रा की इस लिस्ट में अयोध्या भी शामिल होगा। इसके साथ ही ईसाइयों का एक चर्च भी लोगों की भारी मांग पर जोड़ा जा रहा है।

केजरीवाल ने बताया कि करीब एक हजार तीर्थ यात्रियों के साथ पहला जत्था तीन दिसंबर को अयोध्या के लिए रवाना होगा। इससे पहले पिछले महीने दिल्ली कैबिनेट में अयोध्या को योजना में शामिल करने से जुड़े प्रस्ताव को मंजूर किया था।

केजरीवाल ने कहा कि अगर अयोध्या जाने वाले तीर्थ यात्रियों की संख्या ज्यादा हुई तो वह कई ट्रेनें चलाएंगे लेकिन किसी को परेशान होने की जरूरत नहीं है। केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली के बुजुर्ग  12 स्थलों में से किसी भी स्थल को चुनकर वहां जा सकते हैं। वह अपने साथ एक अटेंडेंट भी ले जा सकते हैं। यह अटेंडेंट युवा भी हो सकता है।

सारा खर्च देती है सरकार

केजरीवाल ने बताया कि, बुजुर्गों के आने-जाने, होटल, ट्रांसपोर्ट, खाने-पीने का सारा खर्च सरकार उठा सकती है। इसमें हमने अयोध्या को भी जोड़ लिया है। इसके लिए आप ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर जाकर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। चिंता मत करना कि ज्यादा लोग रजिस्ट्रेशन कराएंगे तो सब जा नहीं पाएंगे। लेकिन ऐसा नहीं है अगर ज्यादा लोग हुए तो हम कई ट्रेन लगा देंगे लेकिन मैं सबको यात्रा कराऊंगा।

वेलांकिन्नी चर्च भी हुआ लिस्ट में शामिल

केजरीवाल ने कहा कि हमारे ईसाइ भाइयों की शिकायत थी कि उनका कोई तीर्थ इस लिस्ट में शुमार नहीं है। तो उनका एक मशहूर तीर्थ है वेलांकिन्नी चर्च उसे भी हम अब इस योजना में शुमार कर रहे हैं। इसके बाद ईसाइ भाई भी तीर्थ यात्रा योजना का लाभ उठा सकेंगे।

जनवरी 2019 में शुरू हुई थी योजना

इससे पहले मंगलवार को तीर्थ यात्रा विकास समिति के अध्यक्ष कमल बंसल ने बताया कि दिल्ली के वरिष्ठ नागरिकों की मांग थी कि योजना फिर से शुरू की जाए। इसके लिए बड़ी संख्या में आवेदन दिल्ली योजना के तहत भेजे गए थे। पहली यात्रा अयोध्या के लिए जा रही है। ट्रेन में करीब एक हजार तीर्थ यात्री होंगे। गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने इस योजना को 9 जनवरी 2018 को शुरू किया था। कोरोना शुरू होने से पहले तक अलग-अलग रूट्स पर करीब 35000 वरिष्ठ नगारिकों ने तीर्थ यात्रा कर ली थी। अब नए सिरे से योजना की शुरुआत हो रही है। PLC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here