Close X
Sunday, November 1st, 2020

सरकार महिलाओं व बालिकाओं की सुरक्षा व सम्मान के लिए प्रतिबद्ध

आई एन वी सी न्यूज़
लखनऊ ,


उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना श्री नवनीत सहगल ने लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि आज ग्लोबल हैण्ड वाशिंग डे के अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने ‘‘हाथ धोना, रोके कोरोना‘‘ हैशटैग अभियान का शुभारम्भ किया। श्री सहगल ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि लोग अपने हाथ धोते हुए फोटे हैशटैग के साथ ट्वीट करते हुए एकजुटता प्रदर्शित करे। उन्होंनेे कहा कि कोरोना को हराने के लिए प्रदेश एकजुट हो। प्रदेश में कोरोना की रिकवरी दर निरन्तर बढ़ रही है और पाजिटिविटी दर एवं एक्टिव केसों की संख्या लगातार घट रही है, परन्तु यह समय और अधिक सावधान व सर्तक रहने का है। उन्होंने कहा कि विश्व के कई देशों सहित देश के अन्य राज्यों में ऐसा देखा गया है कि कोरोना संक्रमण की दर घटने के उपरांत पुनः बढ़ गयी है। उत्तर प्रदेश में ऐसी स्थिति न आये इसके लिए हमें और अधिक सावधान, सर्तक व जागरूक रहने की आवश्यकता है।


श्री सहगल ने बताया कि राज्य सरकार महिलाओं व बालिकाओं की सुरक्षा व सम्मान के लिए प्रतिबद्ध हैं। प्रदेश में महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा सम्मान व स्वालम्बलन के लिए मिशन शक्ति के नाम से आगामी 17 अक्टूबर से एक अभियान चलाया जा रहा है। यह अभियान 180 दिनों का होगा। सभी मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों, अधिकारियों व महिला एवं बाल कल्याण से जुड़े सभी विभागों के अधिकारियों के समन्वय की एक समिति बनायी गयी है, जो जनपदों में महिलाओं के सुरक्षा एवं सम्मान के लिए कार्य करेगी। इसके माध्यम से जनपदों में विभिन्न जागरूकता एवं राज्य सरकार की योजनाओं से लाभान्वित किये जाने के विभिन्न कार्यक्रम आयोजित जायेंगे।


श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश में सूक्ष्म, लघु, मध्यम एवं वृहद श्रेणी की 8,18,177 इकाइयॉ क्रियाशील हैं, जिनमें 51.78 लाख श्रमिक कार्यरत हैं। प्रदेश में अद्यतन मगपेजपदह 4.35 लाख इकाईयों को आत्मनिर्भर पैकेज के अन्तर्गत रू0 10,722 करोड के ऋण स्वीेकृत कर वितरित किये जा रहे हैं। आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार/स्वरोजगार सृजन अभियान में इस वित्तीय वर्ष में 14 मई से आजतक 5.39 लाख नई डैडम् इकाईयों को रू0 15,239 करोड के ऋण वितरण किया गया है। प्रदेश में वर्तमान में 4000 धान क्रय केन्द्र स्थापित है। अब तक 43,689.40 मी0 टन धान की खरीद सुनिश्चित की जा चुकी है। जबकि गत वर्ष इस अवधि में धान की खरीद 2301.16 मी0टन की गयी थी। उन्होंने किसानो ंसे अनुरोध किया है कि वे हैरवेस्टर से तत्काल कटा हुआ धान न लाये बल्कि उसे सुखाकर क्रय केन्द्रों पर लाये। उन्होंने कहा कि किसानों से क्रय धान मूल्य का भुगतान 72 घण्टे में किये जाने के निर्देश मा0 मुख्यमंत्री जी द्वारा दिये गये है।


प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि आज ग्लोबल हैण्ड वाशिंग के अवसर पर हैण्ड वाशिंग के लाभ के बारे में प्रकाश डाला जा रहा है। वर्तमान में कोरोना संक्रमण के काल में हैण्ड वाशिंग, कोरोना से बचाव एवं उसके संक्रमण की कड़ी को तोड़ने के लिए सबसे अच्छा उपाय है। उन्होंने कहा कि समय-समय पर हाथ को साबुन-पानी से धोने व साफ रखने से शरीर के अन्दर विषाणु जाने एवं स्वयं को संक्रमण से बचाया जा सकता है।


श्री प्रसाद ने बताया कि प्रदेश ने कल कोविड-19 की टेस्टिंग में नया बैंच मार्क स्थापित करते हुए कुल जांच की संख्या सवा करोड़ का आकड़ा पार किया है। प्रदेश में 30 सितम्बर, 2020 को कुल टेस्टिंग में एक करोड़ का आकड़ा पार किया था। पिछले 15 दिनों मंे 25 लाख और टेस्ट किये गये। कल प्रदेश में एक दिन में कुल 1,54,163 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक कुल 1,25,09,210 सैम्पल की जांच की गयी है। प्रदेश कुल टेस्टिंग में देश में प्रथम स्थान पर है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 2728 नये मामले आये हैं। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 3239 व्यक्ति उपचारित होकर डिस्चार्ज किये गये हैं। अब तक कुल 4,04,545 लोग पूर्णतया उपचारित होकर डिस्चार्ज किये गये। प्रदेश में रिकवरी का प्रतिशत अब बढ़कर 90.42 प्रतिशत हो गया है। प्रदेश में 36,295 कोरोना के एक्टिव मामले हैं। एक्टिव केसों में पिछले 04 सप्ताह में 47 प्रतिशत की कमी आयी है। होम आइसोलेशन में 16,995 लोग हैं। उन्होंने बताया कि अब तक कुल 2,48,045 लोग होम आइसोलेशन की सुविधा प्राप्त करते हुए 2,31,050 लोगों ने अपने होम आइसोलेशन की अवधि पूर्ण कर ली है।


श्री प्र्रसाद ने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,40,456 क्षेत्रों में 4,19,563 टीम दिवस के माध्यम से 2,70,97,661 घरों के 13,37,13,142 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि जब तक कोविड-19 की निश्चित दवा या वैक्सीन नहीं आती तब तक संक्रमण से बचाव ही सबसे अच्छा उपचार है। उन्होंने कहा कि सावधानी बरत कर हम खुद बच सकते हैं और दूसरों को इस संक्रमण से बचा भी सकते हैं। उन्होंने बताया कि चिकित्सकीय उपचार के लिए ई-संजीवनी पोर्टल शुरू किया गया है। ई-संजीवनी के माध्यम से 2,577 लोगों ने चिकित्सकीय परामर्श लिया। अब तक कुल 1,39,830 लोगों ने ई-संजीवनी पोर्टल पर चिकित्सकीय परामर्श लिया।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment