महंगाई भत्ते और महंगाई राहत के कारण राजकोष पर संयुक्त रूप से 9,544.50 करोड़ रुपये प्रति वर्ष का प्रभाव पड़ेगा। इससे केंद्र सरकार के लगभग 47.68 लाख कर्मचारियों और 68.62 लाख पेंशनभोगियों को लाभ मिलेगा।

मुद्रास्फीति (महंगाई) और आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि के बीच कर्मचारियों के लिए यह राहत की खबर है।

सरकार के बयान में कहा गया है, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ते (डीए) और पेंशनभोगियों के लिए महंगाई राहत (डीआर) की अतिरिक्त किस्त जारी करने की मंजूरी दे दी है, जो एक जनवरी 2022 से प्रभावी होगी। इसमें मूल वेतन/पेंशन के 31 प्रतिशत की मौजूदा दर में 3 प्रतिशत की वृद्धि की गई है, ताकि मूल्य वृद्धि की भरपाई की जा सके।”

केंद्र सरकार ने इससे पहले अक्टूबर 2021 में महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी की थी और उससे भी पहले जुलाई 2021 में केंद्र ने डीए को 17 फीसदी से बढ़ाकर 28 फीसदी कर दिया था।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ते (डीए) और पेंशनभोगियों के लिए महंगाई राहत (डीआर) की अतिरिक्त किस्त जारी करने की मंजूरी दे दी है, जो एक जनवरी 2022 से प्रभावी होगी। केंद्र ने कहा, “यह वृद्धि स्वीकृत नियम के अनुसार है, जो सातवें केंद्रीय वेतन आयोग की सिफारिशों पर आधारित है PLC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here