Tuesday, November 12th, 2019
Close X

मरती गंगा और स्वामी सानंद गंगा संकल्प संवाद श्रृंखला : एक परिचय

स्वामी सानंद गंगा संकल्प संवाद’ श्रृंखला का शुभारंभ और टीम INVC NEWS

प्रो. जीडी अग्रवाल ,स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद , गंगापुत्रसन्यासी बाना धारण कर प्रो जी डी अग्रवाल से स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद का नामकरण हासिल गंगापुत्र का संकल्प किसी परिचय का मोहताज नहीं। जानने वाले, गंगापुत्र स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद को ज्ञान, विज्ञान और संकल्प के एक ऐसे ही संगम की तरह जानते हैं, जैसा कि हम तीरथपति प्रयाग को जानते हैं; विज्ञान और अध्यात्म, विचार और कर्म और सच कहें, तो धर्म और उसके मर्म का संगम रहे हमारेप्रयाग, माघ मेला और कुंभ को जानते हैं।

मां गंगा के संबंध मंे अपनी मांगों को लेकर स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद द्वारा किए कठिन अनशन को करीब सवा दो वर्ष हो चुके हैं और ’नमामि गंगे’ की घोषणा हुए करीब डेढ़ बरस, किंतु मांगों को अभी भी पूर्ति का इंतजार है। इसी इंतजार में हमपानी, प्रकृति, ग्रामीण विकास एवम् लोकतांत्रिक मसलों के अत्यंत संवेदनशील लेखक व पत्रकार श्री अरुण तिवारी जी द्वारा स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद जी से की लंबी बातचीतको सार्वजनिक करने से हिचकते रहे, किंतु अब अब खुद इस बातचीत का धैर्य जवाब दे गया है। वह अब सार्वजनिक होना चाहती है। अतः अब समय आ गया है कि INVC NEWS  इस लंबी बातचीत को सार्वजनिक करें।

’’माघ मकर गति जब रवि होई। तीरथपति आवहू सब कोई।।’’ माघ के महीने मंे जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करे, तो सभी तीर्थों के राजा यानी प्रयाग में पधारें; प्रयाग यानी संगम।आइये, इस मकर सका्रन्ति को हम स्वामी सानंद गंगा संकल्प संवाद संगम में स्नान का श्रीगणेश करें। संभव है कि स्वामी सानंद के ज्ञान, संवेदना और संकल्प से शासन, प्रशासन और समाज की संवेदना जगे। हम सभी गंगा की अविरलता-निर्मलता हेतु संकल्पित हों। इसी उद्देश्य से INVC NEWS प्रत्येक शुक्रवार को स्वामी सानंद गंगा संकल्प संवाद श्रृंखला का अगला कथन आपको उपलब्ध कराता रहेगा; यह INVC NEWS टीम का निश्चय है

पहला कथन, शुक्रवार - दिनांक: 22 जनवरी,2016 को प्रकाशित करेंगे।

शुरुआत कुछ यूं होगी

’गंगा, कोई नैचुरल फ्लो नहीं’ :  स्वामी सानंद तारीख 01 अक्तूबर, 2013: देहरादून का सरकारी अस्पताल। समय, सुबह के 10.36 बजे हैं। न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री अरविंद पांडे आकर जा चुके हैं। लोक विज्ञान केन्द्र से रोज कोई न कोई आता है। श्री रवि चोपङा जी भी आये थे। मैं पंहुचा, कमरे में दो ही थे, नर्स और स्वामी सानंद जी। 110 दिन के उपवास के पश्चात् भी चेहरे पर वही तेज, वही दृढ़ता !!..........

फिलहाल, श्री अरुण तिवारी द्वारा प्रस्तुत’स्वामी सानंद गंगा संकल्प संवाद’ श्रृंखला का परिचयात्मक विवरण जानें
__________________________
  स्वामी सानंद गंगा संकल्प संवाद श्रृंखला
 - अरुण तिवारी- 
 एक परिचय

प्रो. जीडी अग्रवाल ,स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद , गंगापुत्र (2)खास परिचितों के बीच ’जी डी’ के संबोधन से चर्चित सन्यासी स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद के गंगा पुत्र होने के बारे में शायद ही किसी को संदेह हो। बकौल श्री नरेन्द्र भाई दामोदर मोदी, वह भी गंगा पुत्र हैं। ’’मैं आया नहीं हूं; मुझे मां गंगा ने बुलाया है।’’ - श्री मोदी का यह बयान तो बाद में आया, गंगा पुत्र स्वामी सानंद की आशा पहले बलवती हो गई थी कि श्री मोदी के नेतृत्व वाला दल केन्द्र में आया, तो गंगा जी को लेकर उनकी मांगों पर विचार अवश्य किया जायेगा। हालांकि उस वक्त तक राजनेताओं और धर्माचार्यों को लेकर स्वामी सानंद के अनुभव व आकलन पूरी तरह आशान्वित करने वाले नहीं थे; बावजूद इसके यदि आशा थी तो शायद इसलिए कि इस आशा के पीछे शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती जी का वह आश्वासन तथा दृढ़ संकल्प था, जो उन्होने स्वामी सानंद के कठिन प्राणघातक उपवास का समापन कराते हुए वृंदावन में क्रमशः दिया व दिखाया था।

स्वामी सानंद के ऐतिहासिक उपवास का समापन हुए दो वर्ष से अधिक समय बीत चुका है। इस बीच श्री मोदी द्वारा गंगा और अपने रिश्ते का बयान आया। केन्द्रीय जल संसाधन मंत्रालय में गंगा और नदी विकास के शब्द जुङे। ’नमामि गंगे’ और ’राष्ट्रीय गंगा मिशन’ ने नया सपना दिखाया। कई घोषणायें हुई। अब ’नमामि गंगे’ के शुरु होने की घोषणा भी हो चुकी है। मालूम नहीं, इन सभी से गंगापुत्र स्वामी सानंद की उम्मीदें कुछ परवान चढ़ी या फिर स्वामी सानंद भी उस श्रेणी मंे शुमार कर लिए गये, जिनके बारे में बतौर प्रधानमंत्री, लालकिले की प्राचीर से बोलते हुए श्री नरेन्द्र भाई दामोदर मोदी ने कहा - ’’कुछ लोग होते हैं, जिन्हे अच्छा दिखाई ही नहीं देता।...वे जब तक निराशा भरी दो-चार बातें न कर लें, उन्हे नींद ही नहीं आती।’’

खैर, मुझे लगता है कि आलोचकों का मखौल उङाने से पहले प्रधानमंत्री जी को सोचना चाहिए कि जब आशा बलवती होती है, तो निराशा का स्वयंमेव लोप हो जाता है। वक्त लगता है, ंिकंतु इतना वक्त कि पदभार संभालने के डेढ़ वर्ष बाद भी स्वयं सुश्री उमाजी यह कहने की स्थिति में नहीं कि देखो, हमने गंगा का यह हजारवां हिस्सा या गंगा में मिलने वाली किसी एक छोटी सी नदी को पूरी तरह प्रदूषण मुक्त कर दिखाया ! पूरा नागरिक समाज जाने किन कारणों से जैसे चुप्पी मारे बैठा है। गंगा किनारे के लोगों ने भी जैसे मान लिया है कि गंगा प्रदूषण मुक्ति का कार्य सिर्फ सरकार की ही जिम्मेदारी है। पूरा धर्मसमाज ऐसे मूक है कि जैसे गंगा प्रदूषण मुक्ति के नाम पर जो हो रहा है, वह पूरी तरह सकारात्मक और पर्याप्त है। ऐसे में आशा बलवती हो, तो हो कहां से ? मेरा ही नहीं, ऐसी अनुभूति हो रही है कि जैसे स्वयं बातचीत का भी धैर्य जवाब दे गया है। अतः अब समय आ गया है कि वर्ष 2013 में कठिन उपवास के 110वें और 111 वें दिन स्वामी सानंद से हुई मेरी बातचीत को श्रृंखलाबद्ध तरीके से समाज के सामने रखूं। संभवतः स्वामी सानंद के अनुभवों व निष्कर्षों से समाज, सरकार और गैर-सरकारी संगठन... तीनों ही समझ सकें कि क्या हालात हैं, जिनसे निराशा पनपती है और क्या हालात हैं, जिनका विकास कर हम आशा को बलवती कर सकते हैं।

गौर कीजिए कि इस बातचीत से पहले मैने कभी स्वामी जी से इस तरह बात नहीं की थी। सच कहूं, तो प्रश्न या तर्क ठीक न लगने पर तुरन्त डांट देने वाले उनके स्वभाव के कारण कभी हिम्मत ही न हुई। मुझे इस बात का आज भी सुखद आश्चर्य है कि इस बातचीत के लिए स्वामी सानंद ने मुझे स्वयं आमंत्रित किया। इतना ही नहीं, इस वार्ता अवधि के दौरान मेरे रहने-खाने के इंतजाम को स्वामी जी ने अपना दायित्व माना। आते वक्त उन्होने मुझे दिल्ली से देहरादून आने-जाने का बस किराया दिया; साथ ही अपना ख्याल रखने का अपनेपन भरा निर्देश भी। यह आजादी भी दी कि मैं जैसे और जहां चाहे इस बातचीत का उपयोग करुं। इस विश्वास और अपनेपन का आधार मैं आज तक नहीं समझ सका।

हां, एक बात और यह कि इस बातचीत से पहले औरों की तरह, स्वामी सानंद मेरे लिए भी एक जिद्दी, सामने वाले को अच्छा लगे या बुरा.. बिना लाग लपेट के कहने वाले, किंतु पूर्णतया सादगी पसंद, स्वावलंबी तथा अपने विषय के ऊंचे दर्जे के विद्वान थे। गंगा प्रदूषण मुक्ति के अपने संकल्प को लेकर रणनीतियों में अनापेक्षित बदलाव के कारण उनमंे परमार्थ मंे स्वार्थ की कुछ संभावना हो सकती है; यह शंका भी कई अन्य की तरह मेरे मन में भी कभी उपजी थी। इसे आप मेरे स्वयं का दिमागी मैल भी कह सकते हैं; बावजूद इसके मुझे स्वामी सानंद की गंगा निष्ठा पर कभी संदेह नहीं था।

बातचीत के जरिए मैने स्वामी सानंद को समझने की कोशिश की। उनके काम की ईमानदारी को परखने और उनके जीवन की यात्रा कथा को खंगालने की भी धृष्टता की। इस बातचीत का खुलासा होने पर आप समझ सकेंगे कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि रिहन्द बांध के निर्माण में प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष तौर पर शामिल एक इंजीनियर अचानक बांधों के खिलाफ हो गया ? क्या हुआ कि जो प्रो. जी. डी. अग्रवाल एकाएक गंगा की तरफ खिंचे चले आये ? कौन से कारण थे कि एक शिक्षक, इंजीनियर और वैज्ञानिक होने के बावजूद प्रो. अग्रवाल ने अपनी गंगा प्रदूषण मुक्ति संघर्ष यात्रा की नींव वैज्ञानिक तर्कों की बजाय, आस्था के सूत्रों पर रखी ? क्या वजह या प्रेरणा थी कि प्रो. अग्रवाल, सन्यासी बन स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद हो गये ? कौन सी पुकार थी, जिसने प्रो. अग्रवाल को इतना संकल्पित किया कि वह अपने प्राण पर ही घात लगाने को तैयार हो गये ?

यह बातचीत गंगा के मुद्दे पर सरकार, नागरिक समाज और धर्माचार्यों के असली और दिखावटी व्यवहार व चरित्र की कई परतों का तो खुलासा करती ही है, स्वयं स्वामी सानंद के व्यक्तित्व के कई पहलुओं को उजागर करती है। इसके जरिये आप स्वामी सानंद की गंगा संघर्ष रणनीति के संबंध मंे फैली कई शंकाओं का भी समाधान पा सकेंगे। इस बातचीत के दौरान उल्लिखित रूङकी इंजीनियरिंग कॉलेज से लेकर बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी तक का उनका छात्र जीवन बताता है कि उस ज़माने में कॉलेज और विश्वविद्यालय सिर्फ उच्च शिक्षा ही नहीं, समाज में गौरव और नैतिकता के उच्च मानकों को स्थापित करने का भी केन्द्र थे। स्वामी सांनद अपने युवावस्था में क्या विचार रखते थे ? चंद घटनाओं से आपको इसका एहसास होगा।

बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने एक बार कहा था कि रिटायरमेंट के बाद सब आई. ए. एस. संत हो जाते हैं। यह बात अधिकारी वर्ग के बारे कभी-कभी सत्य भी प्रतीत होती है। क्या आई. आई. टी., कानपुर में अध्यापन से केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के प्रथम सचिव के प्रशासनिक पद तक की यात्रा और उसके बात के सुकृत्यों के आधार पर प्रो जी डी अग्रवाल जी के बारे में भी यही कहा जा सकता है ? इस प्रश्न का उत्तर जानना दिलचस्प होगा। स्वामी सांनद के पारिवरिक जीवन की एकझलक भी इस बातचीत में मुझे सुनने को मिली। गंगा के विषय में स्वामी सानंद की वैज्ञानिक और आस्थापूर्ण सोच, इस बातचीत का एक मुखर पहलू है ही।

स्वामी सानंद के साथ अपनी बातचीत को मैने लिपिबद्ध करना शुरु कर दिया है। यह बातचीत दो दिन के दौरान छह बैठक और करीब 26 घंटों में सम्पन्न हुई। बातचीत मंे तारतम्य करने की दृष्टि से तनिक संपादन की आवश्यकता भी मुझे महसूस हो रही है। हां, ऐसा करने से न तो बातचीत के तथ्यों से खिलवाङ हो, न बातचीत को गलत तरीके से पेश किया जाये और न ही अपने विचारों को थोपने की कोशिश हो; इसका पूरा-पूरा ख्याल रखना तो जरूरी है ही। अतः मैं ऐसा ख्याल रखूंगा, ऐसा विश्वास करें। स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद से मेरी बातचीत की श्रृंखला को मैने ’स्वामी सानंद गंगा संकल्प संवाद’ नाम देना तय किया है।

____________
arun-tiwariaruntiwariअरूण-तिवारी1परिचय -:
अरुण तिवारी
लेखक ,वरिष्ट पत्रकार व् सामजिक कार्यकर्ता

1989 में बतौर प्रशिक्षु पत्रकार दिल्ली प्रेस प्रकाशन में नौकरी के बाद चौथी दुनिया साप्ताहिक, दैनिक जागरण- दिल्ली, समय सूत्रधार पाक्षिक में क्रमशः उपसंपादक, वरिष्ठ उपसंपादक कार्य। जनसत्ता, दैनिक जागरण, हिंदुस्तान, अमर उजाला, नई दुनिया, सहारा समय, चौथी दुनिया, समय सूत्रधार, कुरुक्षेत्र और माया के अतिरिक्त कई सामाजिक पत्रिकाओं में रिपोर्ट लेख, फीचर आदि प्रकाशित।

1986 से आकाशवाणी, दिल्ली के युववाणी कार्यक्रम से स्वतंत्र लेखन व पत्रकारिता की शुरुआत। नाटक कलाकार के रूप में मान्य। 1988 से 1995 तक आकाशवाणी के विदेश प्रसारण प्रभाग, विविध भारती एवं राष्ट्रीय प्रसारण सेवा से बतौर हिंदी उद्घोषक एवं प्रस्तोता जुड़ाव। इस दौरान मनभावन, महफिल, इधर-उधर, विविधा, इस सप्ताह, भारतवाणी, भारत दर्शन तथा कई अन्य महत्वपूर्ण ओ बी व फीचर कार्यक्रमों की प्रस्तुति। श्रोता अनुसंधान एकांश हेतु रिकार्डिंग पर आधारित सर्वेक्षण। कालांतर में राष्ट्रीय वार्ता, सामयिकी, उद्योग पत्रिका के अलावा निजी निर्माता द्वारा निर्मित अग्निलहरी जैसे महत्वपूर्ण कार्यक्रमों के जरिए समय-समय पर आकाशवाणी से जुड़ाव।

1991 से 1992 दूरदर्शन, दिल्ली के समाचार प्रसारण प्रभाग में अस्थायी तौर संपादकीय सहायक कार्य। कई महत्वपूर्ण वृतचित्रों हेतु शोध एवं आलेख। 1993 से निजी निर्माताओं व चैनलों हेतु 500 से अधिक कार्यक्रमों में निर्माण/ निर्देशन/ शोध/ आलेख/ संवाद/ रिपोर्टिंग अथवा स्वर। परशेप्शन, यूथ पल्स, एचिवर्स, एक दुनी दो, जन गण मन, यह हुई न बात, स्वयंसिद्धा, परिवर्तन, एक कहानी पत्ता बोले तथा झूठा सच जैसे कई श्रृंखलाबद्ध कार्यक्रम। साक्षरता, महिला सबलता, ग्रामीण विकास, पानी, पर्यावरण, बागवानी, आदिवासी संस्कृति एवं विकास विषय आधारित फिल्मों के अलावा कई राजनैतिक अभियानों हेतु सघन लेखन। 1998 से मीडियामैन सर्विसेज नामक निजी प्रोडक्शन हाउस की स्थापना कर विविध कार्य।

संपर्क -: ग्राम- पूरे सीताराम तिवारी, पो. महमदपुर, अमेठी,  जिला- सी एस एम नगर, उत्तर प्रदेश ,  डाक पताः 146, सुंदर ब्लॉक, शकरपुर, दिल्ली- 92 Email:- amethiarun@gmail.com . फोन संपर्क: 09868793799/7376199844

________________

Disclaimer : The views expressed by the author in this feature are entirely her own and do not necessarily reflect the views of INVC NEWS .

Comments

CAPTCHA code

Users Comment

मरती गंगा और स्वामी सानंद गंगा संकल्प संवाद श्रृंखला : प्रथम कथन | International News and Views Corporation, says on January 22, 2016, 8:22 AM

[...] [...]