Close X
Tuesday, October 20th, 2020

पूर्व CM की कोठी के बाहर धरने में बैठे किसान ने जहर पीया

कृषि विधेयकों के खिलाफ किसानों का गुस्सा रुकने का नाम नहीं ले रहा है। इसी बीच शुक्रवार को मुक्तसर जिले के गांव बादल में सुबह-सुबह मामला उस वक्त और गंभीर हो गया, जब धरनास्थल पर एक किसान ने जहर पी लिया। केंद्र सरकार और उसके सहयोगी दल शिअद से नाराज किसान पिछले 4 दिन से पूर्व मुख्यमंत्री की कोठी के बाहर धरने पर बैठे हैं। आज इसी प्रदर्शन में शामिल एक किसान ने जहर पी लिया। आनन-फानन में उसे अस्पताल पहुंचाया गया है, जहां उसकी हालत गंभी बनी हुई है।

दरअसल, जून में केंद्र सरकार कृषि क्षेत्र से जुड़े तीन बिल कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) बिल, आवश्यक वस्तु (संशोधन) बिल, मूल्य आश्वासन और कृषि सेवाओं पर किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) समझौता बिल लेकर आई थी। केंद्रीय कैबिनेट पहले ही इनसे जुड़े अध्यादेश पास कर चुकी है, जिन्हें अब संसद में बिल के रूप में पेश किया गया है। लोकसभा से मंगलवार को आवश्यक वस्तु से जुड़ा संशोधन बिल पास हो गया है। केंद्र सरकार के इन फैसलों का विरोध शुरुआत से ही हो रहा है और इसी के चलते किसान बादल गांव में पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की की कोठी के बाहर किसान 6 दिवसीय धरने पर बैठे हैं।

शुक्रवार को धरने के चौथे दिन मानसा के अकाली गांव के रहने वाले प्रीतम सिंह ने सुबह 6 बजकर 30 मिनट पर जहर पी लिया। बताया जा रहा है कि प्रीतम सिंह और उनके भाइयों के पास 6 एकड़ जमीन है, जिस पर खेती करके वो अपने परिवार का गुजारा चला रहे हैं। किसान प्रीतम सिंह काफी दिनों से किसानों के साथ धरने पर बैठा था। बीते दिन वह कुछ परेशान था, जिसके चलते रातभर सोया भी नहीं। आज दिन चढ़ते ही कब और कैसे प्रीतम सिंह ने जहर पी लिया, किसी को पता नहीं चला। बाद में नजर पड़ी तो उसे पहले बादल गांव के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां उसकी नाजुक हालत को देखते हुए बठिंडा रेफर कर दिया गया। उसे अब मैक्स अस्पताल में भर्ती किया गया है, जहां उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है। PLC.

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment