Close X
Thursday, December 3rd, 2020

मोदी शासन में देश की हर व्यवस्था अर्श से फर्श को चूमने लगी

गहलोत ने कहा कि जीएसटी, नोटबंदी, किसानों के खिलाफ पारित किए गए कानूनों को गलत करार देते हुए उन्होने कहा कि यह सब ऐसे में वक्त में हो रहा है जब देश के राज्यों की कोरोना प्रबंधन में आर्थिक रीढ की हड्डी टूट चुकी है देश का हर राज्य केन्द्र से मदद मांग रहा है और केन्द्र बतौर कर्जा लेने की बात कर रहा है। उन्होने केन्द्र सरकार पर सीधा आरोप लगाते हुए कहा कि केन्द्र की आमदनी और राज्यों की आमदनी के स्त्रोंतों में जमीन आसमान का अंतर है ऐसे में केन्द्र को चाहिए राज्यों की मदद करें पर अफसोस है कि कोरोना काल के वक्त में भी केन्द्र सरकार को राजनीति करने से पीछे नहीं हट रही है। गहलोत ने कहा कि जीडीपी देश की नीचे चली गई है तो इस दौरान राज्यों की जीडीपी का क्या हाल हुआ होगा आप जान सकते है। प्रधानमंत्री पर सीधे आरोप में कहा कि मोदी के हाथ में तो आरबीआई है राज्यों के हाथ में कुछ नहीं। किसान सम्मेलन में प्रदेश अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि सात साल के मोदी शासन में देश की हर व्यवस्था अर्श से फर्श को चूमने लगी है प्रधानमंत्री ने सत्ता में आने के लिए सात साल पहले जो वादे किए थे वे सभी वादे जनता के साथ धोखा साबित हो रहे है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज बिड़ला ऑडिटोरियम में किसान सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा कि किसानों की मांगे ना मानकर केन्द्र सरकार जानबूझ भ्रम पैदा कर रही है उन्होने कहा कि सात साल के मोदी शासन में देश किधर जा रहा है पता नहीं। कांग्रेस पार्टी के द्वारा पंजाब में किए जा रहे किसानों द्वारा संसद में पारित कानूनों पर मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया कि यह कानून किसानों के हित में बिलकुल नहीं है बल्कि इससे किसान छोटे व्यापारी, छोटे उद्योग धंधो पर विपरीत असर पडेगा। उन्होने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर आरोप लगाया कि मोदी देश के नामचीन दो तीन बडे उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए जनहित में काम नहीं कर रही है। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment