वीकेंड कर्फ्यू और बारिश के कारण शनिवार को भीड़भाड़ वाले बाजारों व मुख्य सड़कों पर सन्नाटा रहा। सुबह से लेकर शाम तक सड़कें बिल्कु ल खाली थी और लोगों की आवाजाही नहीं थी। दिल्ली के सिरहॉल बार्डर पर हर समय लोगों की भीड़ रहती है, लेकिन शनिवार को यहां भी सन्नाटा पसरा हुआ था।

इसी तरह करोल बाग बाजार भी खाली था। स्थानीय निवासी नितिन व हिमांशु ने बताया कि इस बाजार में तो हर समय ग्राहकों की भरमार रहती है, लेकिन पहली बार दुकानें बंद हैं और सड़कें बिल्कुल खाली हैं। दरअसल, वीकेंड कर्फ्यू के शुरू होते ही पुलिस न केवल इलाके में गश्त करती दिखी बल्कि पिकेट लगाकर वाहनों की जांच भी कर रही थी। ऐसे में जो लोग इसका उल्लंघन करते मिले, उनके खिलाफ चालान की कार्रवाई की गई।हालांकि, 10 बजे के बाद बाहरी दिल्ली इलाके के विभिन्न क्षेत्रों में सड़कों पर वाहनों और लोगों की आवाजाही अन्य दिनों की तुलना में कम हो गई थी। कई सड़कें वीरान दिखाई दे रही थीं तो बाजारों में भी दुकानों के शटर गिरे हुए दिखाई दे रहे थे। बाहरी रिंग रोड पर रात 10 बजे के बाद मधुबन चौक से लेकर बुराड़ी बाईपास तक वाहनों की आवाजाही कम दिखाई दी।

कई वाहन बुराड़ी बाईपास आसपास सड़क पर ही रुके हुए दिखाई मिले। इनमें ज्यादातर मालवाहक वाहन थे। इसी तरह से रिंग रोड पर आजादपुर, शालीमार बाग वजीरपुर, आदि इलाके में पुलिसकर्मी पिकेट लगाकर वाहनों की जांच करते दिखाई दिए। जांच के दौरान कई लोग के पास वाजिब कारण थे तो उन्हें जाने दिया गया। लेकिन उल्लंघन करने वालों का चालान भी किया गया। रोहिणी के प्रशांत विहार इलाके में दुकानें बंद दिखाई दीं और पुलिसकर्मी गश्त करते नजर आए।

इस दौरान बाइक पर सवार लोगों को पुलिसकर्मी रोककर पूछताछ करते दिखे। ग्रामीण क्षेत्रों में भी नरेला, बवाना में पुलिस वीकेंड कफ्र्यू के दौरान सड़कों पर गश्त करते हुए दिखाई दी और लोगों को घर जाने के लिए हिदायत देती रही।इलाके में पुलिस के कई आला अधिकारी भी घूमते दिखाई दिए। PLC

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here