Sunday, February 23rd, 2020

डॉ. रेनू चन्द्रा की पाँच रचननाएँ

डॉ. रेनू चन्द्रा की पाँच रचननाएँ 
1-
ज़ीस्त का मक़सद एक तबस्सुम भीड़ से राहत पाने का बस एक तरीका भीड़ में उन चेहरों को चीन्हो जो बेहद अपने लगते हों उन चेहरों से चाहत लेकर भीड़ के ऊपर प्यार उड़ेलो प्यार की सूरत एक तबस्सुम
2-
ज़ीस्त बहुत बोझिल है आ, कि इस बोझ के टुकड़े कर लें एक टुकड़ा मैं जिऊँ एक टुकड़ा तू जिये आ न ! एहसास के प्याले में से एक कतरा मैं पियूँ एक कतरा तू पिये सदियों से काँपती उधारी रूह के लिए मोहब्बत का पैरहन मैं सिऊँ इन्सानियत का लिबास तू सिये
3-
उठी हुई ऊँगली अपनी हो और दांतों तले दबी हो तो बात बन जाती है आश्चर्य गालों पर टिकी हो तो गम हो जाती है गहन विचारों में ठोड़ी को छूकर बनती है अदा कानों को स्पर्श करती है यदा-कदा अपराध-बोध होने पर तो कभी आँख में फिरती है किरकिरी का संदेह होने पर पर यही उठी हुई ऊँगली दूसरे की हो तो सिहरा देती है पूरे बजूद को बनकर एक प्रश्न चिन्ह ?
4-
मैं आज कितनी अकेली हूँ कैसे बतलाऊँ न धूप में है तपन और न छांव में है आराम न चाँदनी ही रह गयी शीतल न ही बरसात अब लुभाती है या सभी हैं मगर अहसास नहीं होता मुझे तुम्हारे ख्वाब ख़यालों ने मुझे छोड़ दिया मैं आज कितनी अकेली हूँ कैसे बतलाऊँ
5-
दुनिया के सामने नक़ाब ओढ़ लेने का आम चलन है पर कोई बताए दर्पण के सामने नक़ाब ओढ़कर कोई कैसे जाए _________________
dr renu chandra,poet dr renu chandra.renu chandraपरिचय : - डॉ. रेनू चन्द्रा शिक्षा     :   एम.बी.बी.एस व्यवसाय   :   महिला चिकित्सक प्रकाशन    : महादेवी काव्य का अभिनय मूल्यांकन, हिन्दी ग़ज़ल       पंचशती-2 तथा ग़ज़ल दुष्यन्त के बाद में साझीदारी, अनेक पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित, यथा - सारिका, कादम्बनी, नचनीत, बालभारती, शोध धारा तथा दैनिक आचरण ग्वालियर आदि संपादन    :  नव अंकुर प्रभार भारत (मासिक) लेखन विधाएॅं:  काव्य, लघुकथा, पुस्तक-समीक्षा, निबन्ध आदि प्रमुख दायित्व:  अध्यक्ष लोकमंगल उरई, संयोजिका महिला प्रकोष्ठ उ.प्र. हिन्दी साहित्य सम्मेलन, संयोजक- उ.प्र. हिन्दी साहित्य सम्मेलन उरई अधिवेशन, सदस्य- लेखिका संघ नई दिल्ली सम्मान एवं पुरस्कार:  इटावा हिन्दी सेवा निधि, इटावा द्वारा ”नन्द किशोर सक्सेना शिब्बन बाबू एडवोकेट स्मृति अलकंरण“ से सम्मानित, हीरोज क्लब इलाहाबाद, उ.प्र. हिन्दी साहित्य सम्मेलन, अ.भा. पुस्तक प्रचार समिति इंदौर, बी.एच.ई.एल. सांस्कृतिक योगदान हेतु सम्मानित एवं प्रशंसित, जालौन जनपद की असाधारण युवती पुरस्कार से जेसीज द्वारा पुरस्कृत, जालौन जनप में उत्कृष्ट प्रसवोŸार चिकित्सा सेवा के लिए प्रदेश शासन द्वारा सम्मानित संगोष्ठियों में सहभागिता:  राष्ट्रीय स्तर की अनेक संगोष्ठियों में सहभगिता ण्वं शोधपत्र वाचन संपर्क     : चन्द्रा नर्सिंग होम, पटेल नगर, उरई- 285001 (उ.प्र.)  दूरभाष 05162-252701 मोब 09415070175

Comments

CAPTCHA code

Users Comment