Thursday, November 14th, 2019
Close X

CM येदियुपरप्‍पा ने पेश किया विश्‍वास मत

 

नई दिल्‍ली : कर्नाटक में जारी राजनीतिक संकट के बीच राज्‍य की कांग्रेस-जेडीएस सरकार गिर जाने के बाद बीएस येदियुरप्‍पा ने 26 जुलाई को मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली थी. लेकिन उनके और बीजेपी के लिए आज यानी 29 जुलाई का दिन काफी अहम है. कर्नाटक विधानसभा की कार्यवाही शुरू हो गई है. आज बीएस येदियुरप्‍पा को कर्नाटक विधानसभा में बहुमत साबित करना है. उन्‍होंने विधानसभा में विश्‍वास मत पेश कर दिया. साथ ही कांग्रेस और जेडीएस पर निशाना साधा.
कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने कहा कि बीएस येदियुरप्‍पा जनाधार के मुताबित मुख्‍यमंत्री नहीं बने हैं. जनाधार कहां है? आपके पास जनाधार 2008 और 2018 में भी नहीं था. अब भी नहीं है. जब उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली थी तब सदन में 222 विधायक थे. बीजेपी के पास 112 विधायक कब थे? बीजेपी के पास 105 सीटें हैं. यह जनाधार नहीं है.
कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने विधानसभा में कहा कि हमने एचडी कुमारस्‍वामी के विश्‍वास मत पर 4 दिनों तक चर्चा की. मैंने भी उसमें हिस्‍सा लिया. लेकिन मैं उसपर कुछ भी कहना नहीं चाहूंगा. मैं इस पर बोलना चाहूंगा कि आखिर वो कौन सी परिस्थितियां थीं कि बीएस येदियुरप्‍पा मुख्‍यमंत्री बन गए. मैं उन्‍हें शुभकामनाएं देता हूं. साथ ही उनकी इस बात का स्‍वागत करता हूं कि वह लोगों के लिए काम करेंगे.
कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा ने विधानसभा में कहा कि राज्‍य में सूखा है. मैं किसानों के मुद्दों को उठाना चाहता हूं. मैंने निर्णय लिया है कि पीएम किसान योजना के अंतर्गत राज्‍य सरकार की ओर से प्रभावित किसानों को 2-2 हजार रुपये की दो किस्‍त दी जाएगी. मैं विपक्ष से अपील करता हूं कि हम साथ मिलकर काम करें. मैं सदन से अपील करता हूं कि मुझपर भरोसा करें. 
कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा ने कहा कि भूलो और माफ करो वे चीज हैं, जिनपर मैं विश्‍वास करता हूं. मैं उन लोगों को प्रेम करता हूं जो मेरा विरोध करते हैं. मैं पीएम मोदी नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह और जेपी नड्डा को धन्‍यवाद देना चाहता हूं.
कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्‍पा ने सोमवार को विधानसभा की कार्यवाही शुरू होने के बाद विश्‍वास मत पेश किया. उन्‍होंने इस दौरान कहा कि जब सिद्धारमैया और एचडी कुमारस्‍वामी कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री थे तब उन्‍होंने प्रतिशोधी राजनीति को रोकने का काम नहीं किया. प्रशासन पूरी तरह से फेल हो गया. हम इसे ठीक कर रहे हैं. मैं सदन को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि हम प्रतिशोध वाली राजनीति में शामिल नहीं होंगे. हम भूलो और माफ करो की नीति पर विश्‍वास रखते हैं.
कर्नाटक विधानसभा के स्‍पीकर केआर रमेश कुमार द्वारा अयोग्‍य ठहराए जाने और विधानसभा के कार्यकाल के दौरान चुनाव लड़ने देने के फैसले के खिलाफ कांग्रेस के बागी विधायक सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं. सोमवार को कांग्रेस के अयोग्‍य ठहराए गए बागी विधायकों रमेश जरकीहोली और महेश कुमाथली ने सुप्रीम कोर्ट में इस संबंध में याचिका दायर की है. उन्‍होंने स्‍पीकर के आदेश को चुनौती दी है.
फ्लोर टेस्‍ट से पहले कर्नाटक कांग्रेस के विधायक दल की बैठक भी हुई.
कर्नाटक विधानसभा में आज होने वाले फ्लोर टेस्‍ट से पहले कर्नाटक कांग्रेस विधायक दल की बैठक हो रही है. इसमें कांग्रेस नेता सिद्धारमैया, कर्नाटक कांग्रेस अध्‍यक्ष दिनेश गुंडू, केजे जॉर्ज, प्रियांक खड़गे, एमबी पाटिल, ईश्‍वर खंद्रे समेत अन्‍य कांग्रेस नेता भी मौजूद हैं.
कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्‍पा ने फ्लोर टेस्‍ट से पहले सोमवार सुबह मंदिर में भगवान के दर्शन किए. इसके बाद वह विधानसभा पहुंचे हैं.
आज बीएस येदियुरप्‍पा को कर्नाटक विधानसभा में बहुमत साबित करना है. रविवार को स्‍पीकर केआर रमेश कुमार ने कांग्रेस-जेडीएस के 14 बागी विधायकों को अयोग्‍य घोषित किया था. अब तक 17 विधायक अयोग्‍य घोषित हो चुके हैं. इसके बाद मुंबई में रुके कांग्रेस के पांच अयोग्‍य घोषित विधायक बेंगलुरु लौट आए हैं. PLC

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment