Close X
Thursday, December 9th, 2021

इस्लामिक आंदोलन से चीन के BRI परियोजना पर खतरा?

ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ETIM), जिसे तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट के रूप में भी जाना जाता है, चीन के लिए एक गंभीर राष्ट्रीय सुरक्षा खतरा है। यह बात इंटरनेशनल फोरम फॉर राइट्स एंड सिक्योरिटी (IFFRAS) ने अपनी एक रिपोर्ट में कही है। रिपोर्ट में बताया गया है कि शिनजियांग प्रदेश में रहने वाले उइगर समुदाय के लोग आजादी चाहते हैं। शिनजियांग में उइगर मुस्लिमों की आबादी करीब 1.3 करोड़ है। चीन इन लोगों को चरमपंथी बता इनपर अत्याचार करता रहा है।

बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव पर खतरा?

बता दें कि बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) शिनजियांग क्षेत्र होकर गुजरता है जो कि चीन के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। BRI के छह में से चार रूट शिनजियांग से होकर गुजरते हैं जो चीन को रूस, मध्य एशिया, पश्चिमी एशिया और दक्षिण एशिया से लेकर भूमध्य सागर तक जोड़ते हैं। स्ट्रेटजिक महत्व के कारण चीन इस बात को लेकर बहुत सावधान है कि ETIM शिनजियांग प्रांत में अगर चरमपंथ फैलाता है तो BRI परियोजना पर खतरा संभव है।

ETIM एक एक्टिव आतंकी संगठन माना जाता है। यूनाइटेड नेशंस ने 2002 में इसे आतंकी संगठन के लिस्ट में डाल दिया था। डॉनल्ड ट्रंप प्रशासन ने नवंबर 2020 में इसे अमेरिकी आंतकी लिस्ट से हटा दिया था। हटाने के पीछे कारण बताया गया कि इसके अस्तित्व को लेकर विश्वसनीय सबूतों की कमी है।

उइगर मुस्लिमों को सर्विलांस पर रखे हुए है चीन

शिनजियांग में मुसलमानों को दबाने के लिए चीन कड़े कदम उठाता रहा है। घर-घर जाकर तलाशी लेता है। लोगों को अवैध रूप से नजरबंद और हिरासत में रखता है। करीब-करीब सभी उइगर मुस्लिमों को सर्विलांस पर रखे हुए है। हिरासत में लिए गए लोगों को जबरन चीनी भाषा सिखाया जाता है और कम्युनिस्ट पार्टी के प्रति वफादार होने के लिए प्रेरित किया जाता है।

एक ओर चीन इस्लामी देशों के साथ बेहतर रिश्ते बना रहा है। यहां तक कि तालिबान जैसे आतंकी समूहों के साथ अपने संबंध मजबूत कर रहा है। वहीं दूसरी ओर अपने ही मुस्लिम नागरिकों के लिए दमनकारी नीतियां लागू कर रहा है। इस्लामिक देश, चीन के इस कदम का विरोध करते नहीं दिखते हैं। ये देश चीन से गठबंधन कर रहे हैं क्योंकि इन देशों को इसी में तात्कालिक फायदा नजर आ रहा है।

रिपोर्ट्स बताती हैं कि चीन ETIM की गतिविधियों को सावधानीपूर्वक मॉनिटर कर रहा है और शिनजियांग पर नियंत्रण जारी रखने के लिए तालिबान से बातचीत कर रहा है। शिनजियांग में चीन ETIM के घुसपैठ को रोकने के लिए उइगर मुस्लिमों को भर्ती करने पर काम कर रहा है। अब इन चीजों से शिनजियांग पर क्या असर पड़ेगा, यह तो भविष्य ही बताएगा। PLC

Comments

CAPTCHA code

Users Comment