नई दिल्ली. मोदी सरकार में मंत्रिमंडल विस्तार की कवायद तेज हो गई है. सूत्रों ने जानकारी दी है कि अगले 24-48 घंटों में कैबिनेट में बदलाव हो सकता है. खास बात यह है कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने 8 जुलाई तक की पहले से निर्धारित सभी बैठकें टाल दी हैं. साथ ही मंत्रिमंडल में जगह पाने वाले संभावित मंत्रियों को दिल्ली आमंत्रित किया गया है. खबर थी कि मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी के आवास पर केंद्रीय मंत्रियों और भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेताओं की बैठक होनी थी.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, आज पीएम मोदी के आवास पर होने वाली बैठक में गृहमंत्री अमित शाह, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, धर्मेंद्र प्रधान, रेल मंत्री पीयूष गोयल, प्रह्लाद जोशी और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर शामिल होने वाले थे. इससे पहले भी पीएम बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और शाह समेत कई वरिष्ठ नेताओं से मिल चुके हैं.

साल 2019 में सत्ता में आने के बाद से ही केंद्रीय मंत्रिमंडल में कोई विस्तार नहीं हुआ है. एनडीए से अकाली दल के अलग हो जाने के बाद मोदी सरकार में केवल बीजेपी के ही मंत्री हैं. राजनीतिक पंडितों ने इस बात के संकेत भी दिए हैं कि बिहार में अहम सहयोगी जदयू को मंत्रालय में प्रतिनिधि मिल सकता है. मार्च 2019 में कांग्रेस का दामन छोड़ बीजेपी में शामिल होने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है.

साल 2022 में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गुजरात, गोवा, मणिपुर, पंजाब और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं. ऐसे में बीजेपी अपने खाते में ज्यादा से ज्यादा वोट पाने की कोशिश में है. केंद्रीय और राज्य कैबिनेट से गायब रही कई जाति और समूहों पर ध्यान दिया जा सकता है.

रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि इस विस्तार में आगामी विधानसभा चुनावों का असर भी देखा जा सकता है. उत्तर प्रदेश में एनडीए के सहयोगी अपना दल की अनुप्रिया पटेल को जगह मिल सकती है. वहीं, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश से कुछ बीजेपी सांसदों को कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है. इस दौरान अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके मंत्रियों के हटाने समेत कई विभाग भी बदले जा सकते हैं. PLC.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here