Monday, October 14th, 2019
Close X

2017 तक अर्थव्यवस्था में चीन को पीछे छोड़ेगा भारत

sdsdsdsdआई एन वी सी न्यूज़ दिल्ली, प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के नेतृत्‍व में राजग सरकार द्वारा लागू किए गए आर्थिक सुधारों के परिणामस्‍वरूप भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था उच्‍च वृद्धि दर और मजबूती की ओर बढ़ रही है। राजग सरकार ने अपने शुरुआती सात महीनों में जो उपाय किए हैं उनसे निवेश चक्र पुन: शुरु हुआ है आर्थिक गतिविधियों में तेजी आई है। चालू वित्‍त वर्ष की पहली छमाही में विकास दर 5.5 प्रतिशत रही है जो कि पिछले वित्‍त वर्ष की पहली छमाही में मात्र 4.7 प्रतिशत थी। राजग सरकार ने महंगाई पर लगाम लगाई है। जो महंगाई दर यूपीए के शासन में 10 फीसदी के आस-पास रहती थी वह आज जीरो प्रतिशत है। राजग के कार्यकाल में कई बार पेट्रोल और डीजल के मूल्‍य में कमी हुई है जिससे महंगाई की मार झेल रहे आम लोगों को बड़ी राहत मिली है। इस तरह राजग सरकार ने आम लोगों को राहत देते हुए अर्थव्‍यवस्‍था को उच्‍च वृद्धि की ओर ले जाने का काम किया है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने भी राजग सरकार की निवेश और विकास दर बढ़ाने वाली नीतियों का अनुसरण करते हुए वृहस्‍पतिवार को अपनी मुख्‍य उधारी दर ‘रेपो रेट’ में 0.25 प्रतिशत की कटौती करते हुए इसे 8 प्रतिशत से घटाकर 7.75 प्रतिशत कर दिया है। आरबीआइ ने रेपो दर में कटौती कर निश्चित तौर पर एक स्‍वागतयोग्‍य कदम उठाया है। रेपो दर में कटौती पिछले 20 महीने में पहली बार हुई है। यह कटौती तभी संभव हो पाई है जब राजग सरकार ने थोक और खुदरा महंगाई को काबू कर काफी नीचे ला दिया है। रेपो दर में कटौती से दो फायदे होंगे। पहला फायदा तात्‍कालिक होगा जिससे उन लोगों को राहत मिलेगी जो हर महीने होम लोन या ऑटो लोन की किश्‍त चुका रहे हैं। दूसरा फायदा दीर्घकालिक होगा जिससे अर्थव्‍यवस्‍था में निवेश और मांग की दर जोर पकड़ेगी जिससे औद्योगिक गतिविधियां तेज होंगी और विकास दर बढ़ेगी। ऐसा होने पर रोजगार सृजन में भी अपेक्षानुरूप वृद्धि होगी। बहरहाल अर्थव्‍यवस्‍था के अच्‍छे दिनों की यह अभी शुरुआत है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के नेतृत्‍व में राजग सरकार आगामी दिनों में भी लंबित आर्थिक सुधारों को लागू कर सुशासन और विकास सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाएगी। उम्‍मीद है कि आरबीआई आगे भी इसी तरह रेपो दर में कटौती करके आम लोगों और m|ksx जगत को सस्ते कर्ज का तोहफा देते रहेगा। भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था की मजबूत होती स्थिति का लोहा विश्‍व बैंक जैसी अंतरराष्‍ट्रीय संस्‍थाओं ने भी माना है। विश्‍व बैंक ने बुधवार को कहा है कि भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था 2017 में चीन को पीछे छोड़कर सर्वाधिक तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्‍यवस्‍था बन जाएगी। निश्चित रूप से यह भारत के लिए बड़ी उपलब्धि होगी। इस सफलता का श्रेय प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के नेतृत्‍व में राजग सरकार को जाता है।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment