Close X
Friday, September 25th, 2020

1984 की तर्ज पर दिया जाए दिल्ली दंगा पीड़ितों को मुआवज़ा 

जमीयत उलेमा ए हिंद के महासचिव मौलाना महमूद मदनी का तीसरी बार दंगा प्रभावित क्षेत्र का दौरा, जमीयत के राहत एवं पुनर्वास कार्यों का जायज़ा लिया।
 

आई एन वी सी न्यू
नई दिल्ली ,

शुरू से ही दिल्ली दंगा प्रभावितों के पुनर्वास व राहत तथा उनको कानूनी सहायता पहुंचाने वाली संस्था जमीयत उलेमा ए हिंद के महासचिव मौलाना महमूद मदनी आज सुबह तीसरी बार फिर दंगा प्रभावित क्षेत्र में गए और एक बार फिर प्रभावितों और पीड़ितों से मुलाकात करके उनको हर संभव सहायता और सहयोग देने का वादा किया।  मौलाना मदनी ने मदीना मस्जिद शिव विहार का भी दौरा किया, जिसको दंगाइयों ने सिलेंडर के माध्यम से तबाह कर दिया था। मौलाना मदनी ने जमीयत के कार्यकर्ताओं के माध्यम से किए जा रहे कार्यों का जायज़ा लिया और कहा कि इसमें और अधिक तेज़ी लाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जमीयत उलेमा ए हिंद प्रभावितों के  पुनर्वास और उनको दोबारा रोज़गार से जोड़ने तथा सांप्रदायिक सद्भाव की स्थापना और पीड़ितों को न्याय दिलाने पर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि न्याय की बुलन्दी और प्राप्ति को विश्वसनीय बनाना आवश्यक है।


इस संबंध में जमीयत उलेमा ए हिंद ने दिल्ली हाईकोर्ट में प्रार्थना पत्र दे रखा है जिस पर न्यायालय ने सरकारों को नोटिस भी जारी किया है। सांप्रदायिक दंगों की जांच में पारदर्शिता लाना और बिना किसी भेदभाव के  वास्तविक दोषियों को सामने लाने के लिए एसआईटी का गठन आवश्यक है। जब तक दंगाइयों को इसका विश्वास न हो जाए कि वह कानून की पकड़ से बच नहीं पाएंगे तब तक दंगों को  रोका नहीं जा सकता। इसके अलावा पुलिस प्रशासन को भी उत्तरदायी बनाना आवश्यक है। जहां तक मुआवजे का मामला है तो हम ने न्यायालय से कहा है कि वह राज्य सरकार को निर्देश दे कि सिख दंगे 1984 की तर्ज पर ही वर्तमान दंगा प्रभावितों को मुआवज़ा दे।

मौलाना मदनी के इस दौरे के दौरान उनके साथ मौलाना हकीमुद्दीन कासमी सचिव जमीयत उलेमा ए हिंद, मौलाना अखलाक कासमी मुस्तफाबाद, मौलाना इरफान कासमी, मौलाना जमाल, मौलाना गययूर कासमी सहित अनेक स्थानीय जिम्मेदार और जमीयत के पदाधिकारी मौजूद थे। मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने बताया कि कल जमीयत उलेमा ए हिंद की तरफ से 19 व्यापारियों को उनके कारोबार को पुनः करने और उन्हें रोजगार से जोड़ने के लिए आवश्यकतानुसार चेक के रूप में धनराशि दी गई है। इसके अलावा मकानों की मरम्मत का काम शुरू हो चुका है।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment