Monday, August 3rd, 2020

100 किमी की रफ्तार से दौड़ी मालगाड़ी

नई दिल्ली । भारतीय रेलवे यात्री गाडिय़ों के साथ-साथ मालगाडिय़ों की रफ्तार बढ़ाने पर भी काम कर रहा है। इस समय पटरियों पर बहुत कम ट्रेनें चल रही हैं और रेलवे इस मौके पूरा फायदा उठा रहा है। लॉकडाउन के दौरान रेलवे ने सुरक्षा, रखरखाव और मरम्मत से जुड़ी 200 से ज्यादा पुरानी परियोजनाओं को पूरा किया। इसी क्रम में रेलवे मिशन शीघ्र के तहत लखनऊ डिवीजन में 100 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से मालगाड़ी चलाने में सफल रहा है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने खुद ट्वीट कर मालगाड़ी के 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने की जानकारी साझा की है। उन्होंने ट्वीट के साथ मालगाड़ी के स्पीडोमीटर का वीडियो भी शेयर किया है।
पहली बार समय पर चलीं ट्रेन
यात्री हमेशा से ट्रेनों के लेट होने की शिकायत करते थे। लेकिन हाल में भारतीय रेल के इतिहास में पहली बार 100 फीसदी ट्रेनें अपने निर्धारित समय पर चलने और गंतव्य पर पहुंचने में सफल रही हैं। भारतीय रेलवे ने 1 जुलाई 2020 को 201 ट्रेनों का संचालन किया। ये सभी ट्रेनें तय समय पर चलीं और आखिरी स्टेशन तक तय समय पर ही पहुंच गईं। ऐसा कर भारतीय रेलवे ने पहली बार ट्रेन के टाइम पर चलने और पहुंचने के मामले में 100 फीसदी सफलता हासिल की है। रेलवे के इतिहास में पहली बार हुआ कि एक भी ट्रेन बिना देरी के गंतव्य स्टेशन तक पहुंची। हालांकि सामान्य स्थिति में देश में एक दिन में 11 हजार ट्रेनें चलती हैं। अब देखना होगा कि रेलवे का संचालन सामान्य होने के बाद यह रेकॉर्ड बरकरार रह पाता है या नहीं।
मालगाड़ी कर रफ्तार दोगुनी
कोरोना काल में मालगाड़ी ने देशभर में जरूरी सामान की आपूर्ति में अहम भूमिका निभाई है। इस दौरान मालगाड़ी की औसत रफ्तार में सुधार पर भी काम किया गया है। रेल मंत्रालय ने हाल में बताया था कि 21 जून 2020 तक इन ट्रेनों की औसत रफ्तार पिछले साल के मुकाबले करीब दोगुनी हो गई है। मंत्रालय के मुताबिक, जून 2018 के दौरान इन ट्रेनों की औसत रफ्तार 23 किमी प्रति घंटा था, जो जून 2020 में करीब दोगुनी होकर 42 किमी प्रति घंटा हो गई है।
पटरियों पर दौड़ी सुपर एनाकोंडा
भारतीय रेलवे ने हाल में दो किमी लंबी ट्रेन सुपर एनाकोंडा चलाकर नया रेकॉर्ड बनाया। यह पहला मौका था जब देश में इतनी लंबी ट्रेन पटरियों पर दौड़ाई गई। माल से लदी हुई 177 बोगियों वाली इस मालगाड़ी का पटरी पर दौडऩा रेलवे के लिए बड़ी उपलब्धि है। यह मालगाड़ी छत्तीसगढ़ से ओडिशा तक चलाई गई। सुपर एनाकोंडा ने 325 किमी की दूरी तय करने के दौरान 100 से अधिक दुर्गम ट्रैक को पार किया। इस दौरान सुपर एनाकोंडा की रफ्तार 50 किमी प्रति घंटा तक पहुंची, जो औसत से दोगुना है। PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment