Close X
Friday, December 4th, 2020

10 साल बाद देखा इतना सूखा जून

गुरुग्राम  । जून की गर्मी ने दिल्लीवालों को झुलसा दिया और कम बारिश ने 10 सालों का रेकॉर्ड तोड़ दिया। 10 सालों में इस साल का जून का महीना सबसे सूखा रहा। पूरे महीने में महज 11.4 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई जो 204 एमएम बारिश के औसत के सामने ना के बराबर है। हालांकि दिल्ली में भी मॉनसून पहुंचा नहीं है, इस बार देरी से आ रहा है लेकिन उम्मीद की जा रही है कि सूखे जून की भरपाई जुलाई की बारिश से हो जाएगी। अनुमान है कि जुलाई में बारिश सामान्य के करीब रहेगी, हालांकि पहली तेज बारिश 15 जुलाई के बाद ही होने का अनुमान है। दिल्ली में 5 या 6 जुलाई को मॉनसून आ जाएगा और इसके बाद पूर्वी यूपी के कुछ हिस्से और हरियाणा में मॉनसून का पहुंचना बाकी रह जाएगा। भारतीय मौसम विभाग में वैज्ञानिक कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा, 'अगले 48 घंटे में निम्न दबाव के क्षेत्र में विस्तार हो सकता है, जिसकी वजह से यह चांस बनता दिख रहा है कि दिल्ली में 6 जुलाई तक मॉनसून पहुंचेगा। उन्होंने कहा कि अनमुान के मुताबिक दिल्ली में मॉनसून एक हफ्ते की देरी से पहुंच रहा है और शुरुआत में हल्की बारिश होगी। आमतौर पर तेज बारिश 15 जुलाई के बाद होती है और अगस्त तक चलती है। देरी होने के कारण इस मौसम में बाद के दिनों में ज्यादातर बारिश की संभावना है।' कुलदीप श्रीवास्तव के मुताबिक, जहां मुंबई जैसी जगहों पर लोग बारिश से बेहाल हैं, वहीं दिल्ली में इस बार लगभग सामान्य मॉनसून रहने का अनुमान है, हालांकि अभी इस बारे में कोई सटीक अनुमान देना जल्दबाजी होगा। मौसम निभाग के आंकड़ं के मुताबिक, साल 2018 में जुलाई के महीने में दिल्ली में सामान्य से ज्यादा बारिश हुई थी। जुलाई में 14 दिन बारिश हुई, जिसमें 286.2 एमएम बारिश दर्ज की गई थी। सबसे ज्यादा बारिश 14 जुलाई को हुई थी, जब 24 घंटे में 56.6 एमएम बारिश हुई थी। जुलाई 2011 से अब तक चार साल ऐसे रहे जब जुलाई में अच्छी बारिश हुई और 4 साल ऐसे रहे जिनमें सामान्य से कम। इस अवधि में जुलाई के महीने में सबसे ज्यादा बारिश साल 2013 में हुई थी, जो 340.5 एमएम दर्ज की गई थी। PLC

 

 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment