Saturday, December 14th, 2019

​प्रत्येक सिख ​ ​करे ​आत्म विशलेषण ​

​​आई एन वी सी न्यूज़ नई दिल्ली,

  • ‘‘गुरू ग्र्रंथ साहिब के फलसफे को पूरी दुनिया में प्रचारने एवं प्रसारने की आवश्यकता

‘‘गुरू ग्रंथ साहिब के फलसफे को पूरी दुनिया में प्रचारने एवं प्रसारने की आवश्यकता है।’’ यह विचार दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधककमेटी के अध्यक्ष स. मनजिन्दर सिंह सिरसा ने यहां माता सुन्दरी कॉलेज के वार्षिक समारोह को संबोधन करते हुए प्रकट किये। स. सिरसा ने कहा कि हम सभी धर्मो का सम्मान करते हैं एव सभी धर्मो की शिक्षाऐं मुल्यवान हैं पर सिख धर्म सबसे नया एवं नई सोच का धर्म है। उन्होंनेकहा कि गुरू ग्रंथ साहिब का फलसफा जो मानव एकता की बात करता है, समानता की एवं नैतिक मुल्यों की बात करता है। इस फलसफे का प्रचार एवं प्रसार पूरीदुनियां में होना चाहिये ताकि सारी दुनिया इससे लाभ प्राप्त कर सके। उन्होंने आगे कहा कि यदि सही ढंग से गुरू ग्रंथ साहिब जी की वाणी एवं गुरु नानक देव जी की विचारधारा का प्रचार करे तो पूरी दुनिया के लोग सिख धर्मको अपना लेंगे। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष ने और आगे कहा कि हम  वर्ष 2019 को गुरु नानक देव जी का 550वें वर्षीय प्रकाश पर्व को समर्पितकर मना रहें हैं, तो इस अवसर पर हमें सभी को आत्म विशलेषण करना चाहिये कि हमने साहिब श्री गुरु नानक देव जी की विचारधारा को कितना अपनाया है एवंगुरु साहिब की महानता के प्रचार में कितना योगदान डाला है। उन्होंने कहा कि हम समझते हैं गुरु साहिबान की महानता एवं फलसफे के प्रचार की जिम्मेंदारीकेवल गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटियों की ही है पर नहीं ‘मैं’ यह महसूस करता हूं कि हर सिख का कर्तव्य है कि वह गुरु नानक साहिब की महानता का प्रचार अधिक सेअधिक करे। स. सिरसा ने कहा कि आज सोशल मीडिया का युग है, हमलोग रोजाना दिलचस्प चीजों को शेयर करते रहते हैं, परन्तु जो बहुत मुल्यवान और संसार केलिए फायदेमंद है वह है गुरु नानक साहिब की विचारधारा एंव गुरु ग्रंथ साहिब की वाणी, हमें सोशल मीडिया द्वारा इनका प्रचार निजी तौर पर अधिक से अधिककरना चाहिये। सिख नेता ने यह भी कहा कि हम अपने बच्चों को आर्थिक एवं समाजिक तौर पर मजबूत बनाना चाहते हैं पर हम सभी को चाहिये कि अपने बच्चोंको धार्मिक शिक्षा देकर धार्मिक तौर पर भी मजबूत बनाये ताकि वे सही ढंग से जीवन जीने की कला सीख सके।



Comments

CAPTCHA code

Users Comment