Sunday, December 15th, 2019

हरित अधिकरण हिन्दूद्रोहियों का अड्डा

आई एन वी सी न्यूज़
नई दिल्ली,
स्वामी ओम जी ने हरित अधिकरण के जजों को लताड़ा] जब तुम बकरा ईद पर यमुना में खून न बहाने के अपने आदेश का पालन नहीं करा सकते तो एन जी टी को बन्द कर दो।

राष्ट्रीय हरित अधिकरण । एनजीटी। में आज ओजस्वी पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष स्वामी ओम जी और राष्ट्रीय राजनीतिक सलाहकार मुकेश जैन ने ओजस्वी पार्टी की याचिका पर सुनवायी के दौरान श्री मुकेश जैन ने कहा कि दिनांक 24 सितम्बर 15 को बकरा ईद पर राष्ट्रीय हरित अधिकरण ने आदेश दिया था कि काटे गये पशुओं का खून नालियों के जरिये यमुना में न जाने दिया जाये। किन्तु आज तक भी हरित अधिकरण अपने इस आदेश पर अमल नहीं करा सका। यह वो ही हरित अधिकरण है जिसने हम हिन्दुओं के दीपावली के पटाखों को प्रदूषणकारी बताया। हिन्दुओं के शवदाह कर्म को प्रदूषणकारी बताया, फूल मूर्ति विर्सजन को प्रदूषणकारी बताकर केवल घाटों पर करने का आदेश दिया। अमरनाथ यात्रा में जय घोष पर रोक लगायी, श्री श्री रविशंकर के विश्व सांस्कृतिक महोत्सव पर रोड़े अटकाये, उन पर 5 करोड़ का जुर्माना किया और अब हमारे सबसे पवित्र जल गंगा जल को स्वास्थ्य के लिये हानिकारक बताकर हिन्दुओं की आस्था पर सबसे बड़ा हमला कर रहा हैं। 

हरित अधिकरण में ओजस्वी पार्टी का पक्ष रखते हुए स्वामी ओम जी ने कहा बकरा ईद के खिलाफ अपने ही आदेश पर हरित अधिकरण की 4 साल से चुप्पी धार्मिक आधार पर भेदभाव है, जिसकी संविधान में मनाही है। 

जब जजों ने इस मामले में चुप्पी साधकर कोई भी फैसला देने से इंकार कर दिया तो स्वामी ओम जी ने हरित अधिकरण के जजों को लताड़ा, जब तुम बकरा ईद पर यमुना में खून न बहाने के अपने आदेश का पालन नहीं करा सकते तो एन जी टी को बन्द कर दो। हरित अधिकरण के जजों के धार्मिक आधार पर इस स्पष्ट भेदभाव को देखकर अदालत में बैठे पत्रकारों और वकीलों में सन्नाटा छा गया और जज 15 मिनट पहले ही बिना कोई फैसला दिये भाग खड़े हुए। 

बाद में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए स्वामी ओम जी और श्री मुकेश जैन ने बताया कि सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों का केवल और केवल हिन्दुओं की आस्थाओं पर चोट पहुंचाने वाला जो हिन्दूद्रोही घिनौना चेहरा हम देश को दिखाना चाहते थे, वह हमने देश को दिखा दिया है। अब देश के हिन्दू समाज को देखना है कि वो इन भारत के दुश्मन और सी आई ए  के ऐजेन्ट खूंखार  नक्सलवादी मनोज मिश्रा के हाथों में खेल रहे नक्सली ईसाई आतंकवादी हिन्दी और हिन्दूद्रोही जजो को कब उनके सही मुकाम तक पहुंचायेंगे।



 

Comments

CAPTCHA code

Users Comment