Saturday, July 4th, 2020

हमें अपने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करना होगा 

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अब हमें कोरोना के साथ जीने की आदत डाल लेनी चाहिए, जब तक इसकी दवा नहीं आती है. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि लॉकडाउन से कोरोना खत्म नहीं होने वाला है. यह कोई जिला मत सोचे कि वह कोरोनामुक्त हो जाएगा, जब तक इसकी दवा नहीं आएगी.सुझाव देते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोरोना के साथ हमें जीने की आदत डालनी होगी. इसके लिए दो सुझाव मानने पड़ेंगे. पहला- कोरोना को फैलने से रोकना है. इसके लिए हमें खूब टेस्टिंग करनी पड़ेगी. जो भी कोरोना का मरीज मिले, उसे ठीक करके घर भेजो. दूसरा- मौत पर कंट्रोल करना है. किसी भी हालत पर मौत नहीं होनी चाहिए.सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि देश में पिछले 70 साल से हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर पर काम नहीं किया गया है. हमने दिल्ली में बहुत काम किया. मोहल्ला क्लिनिक उदाहरण है. कोरोना ने सीखा दिया कि हमें अपने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत रखना है और दूसरा हमें रिसर्च पर काम करना होगा.उन्होंने कहा कि आज हमें अमेरिका का मुंह देखना पड़ रहा है कि वो दवा बनाएं तो हमारे देश का भी कल्याण हो जाए. हमें अपने यहां मेडिकल रिसर्च को और मजबूत बनाना होगा. सीएम केजरीवाल ने दिल्ली में डॉक्टरों के संक्रमित होने पर चिंता भी जताई और कहा कि हम नान-कोविड अस्पताल में फ्लू क्लिनिक खोल रहे हैं.

डेंगू के दौरान अपने सरकार की ओर से किए गए कामों को गिनाते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में डेंगू के दो हजार से अधिक मामले आए थे, लेकिन हमने एक भी मौत नहीं होने दी. अगर हमने मौत पर कंट्रोल पा लिया तो कोरोना भी एक बीमारी हो जाएगी. हुआ बुखार और ठीक हो लिया.दि्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज अमेरिका, स्पेन, इटली और यूनाइटेड किंगडम में कोरोना से हजारों मौतें हो रही हैं. इससे लोगों के अंदर डर है. जिस दिन मौत का डर निकल जाएगा, उस दिन लोगों के मन से कोरोना का भय खत्म हो जाएगा.

दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर सील किए जाने पर सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हरियाणावाले भी अपने हैं और दिल्लीवाले भी अपने हैं. जब तक पूरा देश एक यूनिट के हिसाब से नहीं सोचेगा, तबतक कोरोना नहीं खत्म होने वाला है. बॉर्डर खुलेंगे, फिर फैल जाएगा. हरियाणा में भी केस नहीं होने चाहिए. पूरे देश को तैयार रहना चाहिए.सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली अलग होकर कोरोना से नहीं बच जाएगी. दिल्लीवालों को हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के बारे में सोचना पड़ेगा. सभी देशों को एक-दूसरे के बारे में सोचना होगा. मैंने हरियाणा के मुख्यमंत्री से बात की थी, लेकिन उनकी अपनी चिंताएं हैं.PLC.

Comments

CAPTCHA code

Users Comment