Close X
Wednesday, April 21st, 2021

हमारे देश में प्रतिभाओं की कमी नहीं

आई एन वी सी न्यूज़
रायपुर,
स्वदेशी हमारा गौरव है, यह वह शक्ति है जिससे हमारा देश आत्मनिर्भर बनेगा। कोरोना काल ने हमें कई सीख दी है। इस संक्रमण का सामना करते समय सबसे अधिक साथ निभाया है तो वह है हमारी स्वदेशी। इस समय में हमारे देश की प्राचीन विद्या आयुर्वेद तथा अन्य स्थानीय संसाधनों को अपनाने का एक रास्ता दिखाया। राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके आज यहां साइंस कॉलेज मैदान मेें भारतीय विपणन केंद्र द्वारा आयोजित स्वदेशी मेले के समापन समारोह को मुख्य अतिथि की आसंदी से संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि स्थानीय उत्पादों का उपयोग और खरीदने के साथ-साथ उसका गर्व के साथ प्रचार-प्रसार करें तथा उन उत्पादों को एक ब्रांड के रूप में स्थापित करें।

    राज्यपाल ने कहा श्री ठेंगढ़ी तत्व चिंतक थे, श्री ठेंगढ़ी का कहना था कि सांस्कृतिक आदान-प्रदान की स्वीकार्यता हो, पर हर समाज की अपनी संस्कृति होती है और हर देश के प्रगति और विकास मॉडल का उस देश के सांस्कृतिक मूल्यों के साथ तारतम्य होना चाहिए। राज्यपाल ने इस अवसर पर श्री ठेंगढ़ी को नमन किया।

    राज्यपाल ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किए गए आव्हान के संदर्भ की चर्चा करते हुए कहा कि हमें अधिक से अधिक उन उत्पादकों को खरीदना चाहिए और उसका प्रचार-प्रसार करना भी चाहिए, ताकि वह एक ब्रांड के रूप में स्थापित हो। उन्होंने कहा कि हमारे देश में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। हमारे देश के युवा कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों के सीईओ तथा अन्य प्रमुख पदों पर जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। राज्यपाल ने कहा कि हमें यह सोचना चाहिए कि हम अपने देश के लिए ऐसा क्यों नहीं कर सकते। उन्होंने युवाओं से नवाचार और उद्यमी बनने का आग्रह करते हुए कहा कि अन्य देशों में सॉफ्टवेयर और मोबाइल का उपयोग करते रहे, वैसे ही सॉफ्टवेयर और उपकरण हम अपने देश में बनाएं और अधिक से अधिक आमजनता तक पहुंच बनाए। इससे हमारे लोगों को रोजगार मिलेगा और हमारी पूंजी भी हमारे पास रहेगी। उन्होंने जॉब सीकर की जगह जॉब प्रोवाईडर बनने को कहा।

    सुश्री उइके ने स्वदेशी वस्तु के उपयोग को बढ़ावा देने पर जोर देते हुए कहा कि हमें आज अर्न व्हाईल यू लर्न पर भी बात करनी चाहिए। युवा जल्द अपने काम की शुरूआत करें, फिर पढ़ाई के साथ कुछ काम कर सकते हैं। इस उम्र में उनमें काफी ऊर्जा होती है तथा जोखिम उठाने की क्षमता होती है। नवाचार से नए-नए आईडियाज-तकनीक आएंगे और स्टार्टअप को बढ़ावा मिलेगा। राज्यपाल ने स्वदेशी मेले में लगे स्टालों तथा महिला स्व-सहायता समूह द्वारा लगाए गए उत्पादों का अवलोकन किया और सराहना की।

    इस अवसर पर राज्यसभा सांसद श्री रामविचार नेताम, नेता प्रतिपक्ष श्री धरमलाल कौशिक तथा स्वदेशी जागरण मंच के प्रांत संयोजक श्री मोहन पवार ने भी अपना संबोधन दिया।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment