मनामा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को अपनी विदेश यात्रा के तीसरे चरण में बहरीन पहुंचे. इस दौरान उनका स्वागत उनके बहरीन समकक्ष प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा ने किया. मोदी ने इसे ऐतिहासिक यात्रा करार दिया क्योंकि यह किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली बहरीन यात्रा है.

यहां के नेशनल स्‍टेडियम में  भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, मुझे लग ही ही नहीं रहा है कि मैं देश से बाहर हूं. ऐसा लग रहा है कि मैं भारत में ही हूं. प्रधानमंत्री ने कहा, भारत और बहरीन के संबंध व्‍यापार‍िक संबंधों से कहीं ऊपर हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, गुजरात का बहरीन से पुराना संबंध है. उन्‍होंने कहा, भारत और बहरीन के बीच कई समानताएं हैं. दोनों ही देशों में पार‍िवार‍िक मूल्‍यों को महत्‍व द‍िया जाता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, आज जन्‍माष्‍टमी है. मैं इस देश और भारतीय समुदाय के लोगों को इस पवित्र त्‍योहार की शुभकामनाएं देता हूं.

हमारा रिश्‍ता सरकारों का नहीं संस्‍कारों का है
भारत के तेवर और कलेवर बदलते दिख रहे हैं. भारत और भारतीयों का सेल्‍फ कॉन्‍फ‍िडेंस बढ़ा है. वह लोगों से आंख में आंख डाल कर बात कर हैं. इसके बाद लोगों ने मोदी मोदी के नारे लगाने शुरू कर दिए.

उन्‍होंने कहा, ये इस‍लिए हो पा रहा है कि हमने सामान्‍य लोगों के लिए काम किया है. हमने मूलभूत सुविधाएं देने का काम किया है. आज भारत का हर परिवार बैंकिंग से जुड़ा है. मोबाइल इंटरनेट सामान्‍य परिवार की पहुंच में है.

पीएम मोदी बहरीन के 200 साल पुराने श्रीनाथ मंद‍ि‍र जाएंगे. उन्‍होंने कहा, वह यहां जाकर प्रार्थना करेंगे.
इससे पहले बहरीन पहुंचने पर मोदी ने ट्वीट किया, "बहरीन पहुंच चुका हूं. यह यात्रा ऐतिहासिक है और दोनों राष्ट्रों के बीच संबंधों को बेहतर बनाएगी. मैं शीर्ष नेताओं से मिलने और भारतीय प्रवासियों के साथ बातचीत करने के लिए उत्सुक हूं." PLC.