Monday, February 17th, 2020

हत्या काण्ड : पुलिस ने मुजरिम को पकड़ा

sआई एन वी सी, हरियाणा, हरियाणा पुलिस ने सोनीपत जिला में तीन वर्ष पूर्व जिले के गांव हलालपुर निवासी युवक राजपाल उर्फ पाली पुत्र जिले सिंह की हत्या से पर्दा उठाते हुये आज हत्यारे तीन युवको ंको गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि 26 मार्च 2010 को जिले के गांव हलालपुर निवासी उक्त राजपाल उर्फ पाली का शव गांव हलालपुर की सीमा में डब्बल नहरों के निकट खदानो में पानी में पडां हुआ मिला था,जिसकी सूचना मृतक के भाई राजेश ने थाना खरखौदा पुलिस को दी थी। उस समय पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंच कर शव को अपने कब्जे में लेकर शव का पोस्टमार्टम करवाने पर डाक्टरों ने बताया कि राजपाल की मौत पानी में डूबने से हुई है। इस दौरान जब प्रबन्धक थाना खरखौदा ने इस प्रकरण की तसदीक की तो मृतक राजपाल के भाई राजेश ने बताया कि 21 मार्च 2010 को उसका भाई राजपाल घर से बाहर घुमने-फिरने गया था लेकिन घर वापिस नहीं लौटा। आखिरकार 26 मार्च 2010 को राजपाल का शव गांव की सीमा से गुजरने वाली डब्बल नहरों के निकट चुन्नीलाल नामक किसान के खेत के पास खदानों में पानी में पड़ा हुआ मिला। गत सोमवार को परिवादी राजेश अपनी मां के साथ अपने खेतों से घर लौट रहा था कि इन्हें पता चला कि राजपाल की हत्या हुई थी और यह हत्या गांव के ही रहने वाले सन्दीप उर्फ साईमन्ड, दीपक उर्फ मोनू व रविन्द्र उर्फ शामी ने की थी। राजपाल की हत्या करने के लिये हलालपुर निवासी शीला पत्नी सुरजीत ने इन्हें एक लाख रूपये भी दिये थे। इसी आधार पर पुलिस ने इन चारों के विरूद्ध थाना खरखौदा में भारतीय दण्ड संहिता की विभिन्न धाराओं के अन्तर्गत अभियोग दर्ज किया था। पुलिस आज अपराधियों की खोज में आईटीआई चौंक सोनीपत के निकट उपस्थित थी कि इस पुलिस को वहां पर एक युवक सन्देहजनक अवस्था में घूमता पाये जाने पर पुलिस ने इसे रोक कर इसकी पहचान पूछी तो इसने अपनी पहचान गांव हलालपुर निवासी उक्त रविन्द्र उर्फ मोनू उर्फ शामी के रूप में दी। इसकी तलाशी ली तो इसके पहने कपड़ो से एक देशी पिस्तौल अवैध रूप में मिला। इस सम्बन्ध में इसके विरूद्ध एक अन्य अभियोग शस्त्र अधिनियम के अन्तर्गत थाना सिविल लाईन में दर्ज किया गया है। अनुसन्धान टीम ने इससे आगे और गहन पूछताछ की तो इसने बताया कि करीब तीन वर्ष पूर्व अपने ही गांव के सन्दीप उर्फ साईमण्ड पुत्र सुरेन्द्र व दीपक उर्फ मोनू पुत्र कृष्ण के साथ मिलकर अपने ही गांव के राजपाल उर्फ पाली को अत्यधिक शराब पिलाकर और उसे पानी में डूबो कर उसकी हत्या की थी। राजपाल की हत्या करने के लिये मृतक के पड़ौस में ही रहने वाली शीला पत्नी सूरजीत ने सन्दीप उर्फ साईमण्ड को एक लाख रूपये दिये थे। इसके अतिरिक्त सन्दीप ने शीला से 35 हजार रूपये पहले उधार लिये हुये थे। शीला ने सन्दीप से डेढ लाख रूपये में राजपाल की हत्या करने का सौदा किया। मृतक राजपाल व शीला के परिवारो के मध्य किसी बात को लेकर विवाद था। इसी कारण शीला ने राजपाल की हत्या करने का सौदा किया। इस सौदे में सन्दीप ने अपने साथ उक्त दीपक व रविन्द्र को भी शामिल कर लिया तथा घटना के दिन इन तीनों ने मिलकर राजपाल को अत्याधिक शराब पिलाई और जब वह बेसुध हो गया तो उसे वहीं खदानो में भरे पानी में डूबो कर उसकी हत्या कर दी। फिलहाल अनुसन्धान टीम ने रविन्द्र के बाद आज उक्त सन्दीप उर्फ साईमण्ड व दीपक को भी गिरफ्तार कर लिया है। जिन्होने अपने किये अपराध की स्वीकारोक्ती की है। षडयन्त्र की रचियता शीला की गिरफ्तारी के लिये अनुसन्धान टीम लगातार दबिश डाल रही है। इसकी गिरफ्तारी किसी भी समय सम्भव है। मामले का अनुसन्धान निरन्तर जारी है।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment