Monday, October 21st, 2019
Close X

स्वास्थ्य सवाएं उपलब्ध करान के लिए सरकार कटिबद्ध

आई एन वी सी नव्स लखनऊ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज यहां आधुनिक जीवन रक्षक एम्बुलेंस सेवा के विस्तार के तहत 100 एम्बुलेंस का फ्लैग ऑफ किया। इस सेवा के तहत पूर्व मं 150 एम्बुलेंस संचालित हैं। इस प्रकार, आधुनिक जीवन रक्षक एम्बुलेंस सवा के तहत अब पूरे प्रदश में 250 एम्बुलेंस उपलब्ध हो गयी हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी न राष्ट्रीय सचल चिकित्सा इकाई का भी शुभारम्भ किया। इसके तहत 53 जनपदां में 170 माबाइल मेडिकल यूनिट संचालित की जाएंगी। इस अवसर पर आयाजित कार्यक्रम का सम्बोधित करत हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य सरकार प्रदश की स्वास्थ्य सेवाओं का उत्कृष्ट बनान की दिशा में कार्य कर रही है। उन्हांने कहा कि विगत 22 महीन के अन्दर प्रदश की चिकित्सा सवाओं में बहुत सुधार हुआ है और चिकित्सा के लिए नई-नई सुविधाएं मरीजां का मुहैया करायी जा रही हैं। उन्हांने कहा कि राज्य सरकार ‘108’ और ‘102’ के तहत संचालित एम्बुलेंस सेवाओं के रिस्पॉन्स टाइम का कम करन की दिशा में कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री जी न कहा कि लोगां का अच्छी चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करान के राज्य सरकार क प्रयास को तभी सफल बनाया जा सकता है, जब सरकारी अस्पतालां में चिकित्सक एवं सम्बन्धित स्टाफ मरीजां की पूरी मदद करे। उन्होंन मरीजां एवं उनके तीमारदारों से सहृदयता से व्यवहार करन की सलाह दते हुए कहा कि इससे मरीज का काफी मदद मिलती है। चिकित्सक और पैरामेडिकल स्टाफ का मधुर व्यवहार दवा का काम करता है। उन्हांने कहा कि मरीज व उनके परिजनां से अच्छा व्यवहार चिकित्सक और पैरा मेडिकल स्टाफ की छवि ता निखारगा ही, साथ ही सरकारी चिकित्सा सेवाओं मं उनके भरोसे को भी बढ़ाएगा। उन्होंन कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में आ रह तकनीकी बदलावों पर भी काम करने की आवश्यकता है। इनके उपयोग से लागां को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई जा सकती हैं। उन्होंन कहा कि टली मेडिसिन तथा अन्य तकनीक का उपयाग कर मरीजां की काफी मदद की जा सकती है। मुख्यमंत्री जी न कहा कि पिछल पौन दो वर्षां के अन्दर राज्य की चिकित्सा सवाओं में बहुत कार्य हुआ है। प्रदश की स्वास्थ्य सेवाओं मं काफी वृद्धि हुई है। 13 नये राजकीय मेडिकल कॉलेज और 2 नये एम्स पर कार्य चल रहा है। इनके शुरू हान से राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं को और विस्तार मिलगा। इसके अलावा, नयी मडिकल यूनीवर्सिटी और आयुष विश्वविद्यालय की स्थापना पर भी कार्य चल रहा है। उन्हांन कहा कि राज्य सरकार प्रदश की गरीब जनता का अच्छी एवं प्रभावी चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करान के लिए कटिबद्ध है। आधुनिक जीवन रक्षक प्रणाली युक्त एम्बुलेंस सेवा से जहां मरीज का तजी से अस्पताल पहुंचान में मदद मिलती है, वहीं आज से प्रारम्भ हा रही राष्ट्रीय सचल चिकित्सा इकाई के तहत गरीबां का चिकित्सा सेवाएं उनके द्वार पर उपलब्ध हा सकेंगी। प्रयागराज कुम्भ का जिक्र करत हुए मुख्यमंत्री जी न कहा कि कुम्भ में चिकित्सा विभाग न अच्छा काम किया है। वहां पर नत्र रागियां का चिकित्सा प्रदान करन के उद्देश्य से नत्र कुम्भ का आयाजन किया गया है। साथ ही, मरीजां को मुफ्त मं इलाज उपलब्ध कराया जा रहा है और चश्मा भी दिया जा रहा है। कुम्भ मं स्थापित किय गये चिकित्सालय का जिक्र करत हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्कृष्टता के मामल में यह चिकित्सालय किसी कारपारेट चिकित्सालय का भी मात कर रहा है। उन्हांने कुम्भ मं मौजूद कई धर्माचार्यां का आकस्मिक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने का जिक्र करत हुए कहा कि इससे उनके जीवन की रक्षा हा सकी। राष्ट्रीय सचल चिकित्सा इकाई पर प्रकाश डालते हुए मुख्यमंत्री जी न कहा कि इस सवा के तहत संचालित माबाइल मेडिकल यूनिट में एक डॉक्टर, एक फार्मासिस्ट, एक स्टाफ नर्स एवं एक लैब टक्नीशियन उपलब्ध हागा तथा प्रत्येक यूनिट में 143 प्रकार की औषधियां एवं सन्ट्रीफ्यूज मशीन, सेमी ऑटोएनालाइजर, ग्लूकामीटर, माइक्रास्काप एवं ऑप्थेलमोस्काप जैसे उपकरण भी रागियों की जांच एवं उपचार हतु उपलब्ध रहंगे। उल्लेखनीय है कि आज प्रारम्भ की गयी राष्ट्रीय सचल चिकित्सा इकाई क तहत प्रथम चरण में 53 मोबाइल मेडिकल यूनिट को फ्लैग ऑफ किया गया।, जिसमं से 23 जनपदों क्रमशः प्रयागराज, अम्बेडकरनगर, आजमगढ़, बहराइच, बलरामपुर, बस्ती, चन्दौली, चित्रकूट, अयोध्या, गाण्डा, गारखपुर, मथुरा, कौशाम्बी, कुशीनगर, लखीमपुर खीरी, लखनऊ, महराजगंज, मिर्जापुर, सन्तकबीरनगर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, सानभद्र एवं वाराणसी में इस सेवा का तत्काल संचालन प्रारम्भ कर दिया जाएगा। यह माबाइल मेडिकल यूनिट सचल चिकित्सालय की भांति कार्य करेगी तथा सुदूरवर्ती क्षत्रों के लोगां का निःशुल्क चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराएगी। जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा प्रत्येक माबाइल मेडिकल यूनिट के मासिक भ्रमण हतु कार्यक्रम पूर्व निर्धारित किया जाएगा। इसके अलावा, प्रदेश में ‘108’ एवं ‘102’ एम्बुलेंस सेवा संचालित है, जिनके माध्यम स रागियां का क्रमशः आकस्मिकताआं की स्थिति एवं गर्भवती माताआं को चिकित्सीय सन्दर्भन की सेवाएं दी जा रही हैं। उल्लेखनीय है कि दानां सेवाओं में बेसिक लाइफ सपार्ट एम्बुलंस वाहनां की व्यवस्था के सापेक्ष गम्भीर रागियां के सन्दर्भन के दृष्टिगत 13 अप्रैल, 2017 का आधुनिक जीवन रक्षक एम्बुलेंस सेवा प्रदश के समस्त जनपदां में प्रारम्भ की गयी थी। आज इसी के तहत 100 और एम्बुलेंस उपलब्ध करायी गयी हैं। कार्यक्रम क दौरान चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह, परिवार कल्याण मंत्री श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी, परिवार कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती स्वाती सिंह, प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य डॉ0 प्रशान्त त्रिवेदी सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी, चिकित्सक तथा अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद थे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी न एक पुस्तिका का विमाचन भी किया।



Comments

CAPTCHA code

Users Comment