Close X
Saturday, January 23rd, 2021

स्वस्थ झारखण्ड बनाना सरकार की प्राथमिकता है : रघुवर दास

press_release_10661_26-02-2015आई एन वी सी न्यूज़
राँची,
मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि सरकार राज्य में संविदा पर 12000 पोषण सखी की नियुक्ति जल्द ही करने जा रही है। उन्होंने कहा कि झारखण्ड को आने वाले 5 वर्षों में स्वस्थ राज्य एवं सुखी राज्य बनाना ही राज्य सरकार का लक्ष्य है। इस हेतु राज्य सरकार नेें राज्य में कई नर्सिंग प्रशिक्षण केन्द्र एवं हास्पिटल स्थापित करने पर भी विचार कर रही है। मुख्यमंत्री ने यह बात आज स्थानीय रिम्स के सभागार में पेन्टावैलेन्ट टीका एवं राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिषन का उदघाटन कार्यक्रम में कही।  इस अवसर पर उन्होंने कहा कि झारखण्ड के लिए आज एक ऐतिहासिक दिन है, जिसमें झारखण्ड के प्रत्येक बच्चे एवं गरीब वर्ग तथा के आमजनों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने के उद्देश्य से आज स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक महत्वपूर्ण शुरूआत की गई है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वस्थ झारखण्ड बनाना सरकार की प्राथमिकता है। सरकार स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में राज्य में चलने वाले विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से राज्य के प्रत्येक व्यक्ति को स्वास्थ्य सुविघाएं उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिषन की शुरूआत स्वास्थ्य सेवा की एक महत्वपूर्ण पहल है। उन्होंने कहा कि राज्य में बच्चों के स्वास्थ्य के लिए पेन्टावैलेन्ट टीका बहुत ही महत्वपूर्ण एवं कारगर है। जैसा कि आप सबको बताया गया है कि यह टीका बच्चों को पांच तरह की बिमारियों से बचाता है।
मुख्यमंत्री श्री दास ने कहा कि हमारे राज्य में कुपोषण चिंता का विषय है, हमें इसे चुनौती के रूप में स्वीकार कर राज्य को कुपोषण- मुक्त झारखण्ड बनाने के लिए कृतसंकल्पित होना होगा, जिसमें राज्य के आमजनों की सहभागिता आवश्यक है। प्रत्येक व्यक्ति पूरी ईमानदारी से कुपोषण मुक्त झारखण्ड के निर्माण में अपना सहयोग दें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि राज्य में स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में कार्य कर रहे चिकित्सक ए0एन0एम0 एवं सहियाओं पर बड़ी जिम्मेदारी है साथ ही समाज के प्रबुद्धजनों का भी यह दायित्व है कि वे लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ाएं। स्वास्थ्य सेवा से जुड़े सभी लोगों का यह दायित्व है कि वे सेवा भावना के साथ कार्य करें। चिकित्सक समाज में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। उन्हें समाज में भगवान का दूसरा रूप माना जाता है। किसी व्यक्ति की जान बचाना ईष्वरीय कार्य है। गरीबों की सेवा करना धर्म है। उन्होंने कहा कि आज यहां हम सबको यह संकल्प लेना चाहिए कि राज्य में कोई भी बच्चा कुपोषित न हो, हर किसी को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सेवा दी जाए।
उन्होंने कहा कि राज्य में प्रत्येक जिलों एवं सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों तक चिकित्सा सुविधा की व्यवस्था की गई है, जहां कार्यरत चिकित्सक एवं स्वास्थ्यकर्मी आम जनता को बेहतर स्वास्थ्य चिकित्सा सुविधा प्रदान करने पर जोर दें। राज्य में स्थापित प्रत्येक हास्पीटल में 24 घंटे दो ए0एन0एम0 कार्यरत रहें। ए0एन0एम0 एवं सहियाओं में सेवा भावना जागृत करना आवष्यक है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार के स्वस्थ्य झारखण्ड निर्माण के इस लक्ष्य को पूरा करने में युनिसेफ, तथा स्वयंसेवी संस्थाओं का भी अहम योगदान रहेगा। उन्होनें कहा कि युनिसेफ एवं एन0जी0ओ0 के लोगों को समन्वय स्थापित करके राज्य को स्वस्थ बनाने में अपना सहयोग करना होगा। राज्य सरकार स्वच्छता के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण कार्य कर रही है क्लीन झारखण्ड, स्वच्छ झारखण्ड सरकार की प्राथमिकता है। इस संदर्भ में सरकार ने स्कूलों में शौचालय का निर्माण, राज्य के तीन लाख घरों में शौचालय की व्यवस्था संबंधी कार्य कर रही है।
इस अवसर पर स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में बेहतरीन कार्य करने वाले 14 सहियाओं को मुख्यमंत्री द्वारा पुरस्कृत किया गया। साथ ही साथ कुपोषण उपचार केन्द्र के वेब-साईट का भी शुभारंभ किया गया है। समारोह के अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री श्री रामचंद्र चंद्रवंषी, कांके के विधायक  डा0 जीतु चरण, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री संजय कुमार, स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव श्री के0विद्यासागर,स्वास्थ्य सेवा के निदेषक प्रमुख डॉ सुमंत मिश्र रिम्स निदेषक श्री एस0के0चौधरी सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment