लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सोनभद्र नरसंहार में 10 लोगों की मौत के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस घटना पर घहरा दुख जताया है. उन्होंने इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया. उन्होंने दो टूक कहा कि दोषियों की खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. सीएम योगी ने सीधे-सीधे इस घटना के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि इस घटना की नींव 1955 में ही पड़ गई थी, जब कांग्रेस की सरकार थी.

दो सदस्यीय टीम ने सौंपी रिपोर्ट
सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि घटना की कार्रवाई के लिए तुंरत निर्देश दिए गए और दो सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया, जिन्होंने घटना के 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट सौंप दी है.
घटना की नींव 1955 पड़ चुकी थी
सीएम ने कहा कि इस घटना की नींव साल 1955 में तब पड़ी थी, जब तत्कालीन तहसीलदार ने आदर्श सहकारी समिति के नाम पर ग्राम समाज की जमीन दर्ज करने का गैरकानूनी काम किया.
पीड़ित पक्ष जमीन पर कर रहा था खेती 
सीएम योगी ने कहा कि पीड़ित पक्ष इस जमीन पर खेती कर रहा था और आरोपी प्रधान को कुछ पैसा भी दे रहा था, लेकिन इस मामले में प्रधान द्वारा वाद दायर करने के बाद पीड़ित परिवार ने पैसा देना बंद कर दिया था. उन्होंने बताया कि इस मामले मे कुल 29 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं जिसमें एक आरोपी ग्राम प्रधान भी है.
अधिकारियों ने की लापरवाही: सीएम
मुख्यमंत्री योगी ने ये स्वीकार किया कि इस पूरे मामले पर अधिकारियों ने लापरवाही बरती है. उन्होंने बताया कि वाराणसी जोन एडीजी पूरे प्रकरण की जांच कर 10 दिन में रिपोर्ट सौपेंगे.
मुख्यमंत्री के भाषण के दौरान विपक्ष ने किया हंगामा
मुख्यमंत्री के सदन के भाषण के दौरान हंगामा विपक्ष ने जमकर हंगामा काटा. सपा का बैनर-पोस्टर के साथ सदन के वेल में हंगामा शुरू और कांग्रेस भी वेल में पहुंची. विधानसभा अध्यक्ष ने विपक्ष से कहा यह नेता सदन के भाषण के दौरान ऐसा हंगामा उचित नहीं है, लेकिन फिर भी विपक्ष नहीं माना. PLC