ज़ाकिर हुसैन  

नई दिल्ली. सेल के मुख्य सतर्कता अधिकारी वेणुगोपाल के. नायर की पुस्तक ‘रिफ्लेक्शन्स- एन इनसाइट इनटू दि विजिलेंस कॅनॅन्ड्रम’ का विमोचन देश के केन्द्रीय सतर्कता आयुक्त प्रत्युष सिन्हा ने 2 दिसम्बर, 2009 को सेल के नई दिल्ली स्थित मुख्यालय, इस्पात भवन में आयोजित एक समारोह में किया। इस समारोह में सेल अध्यक्ष एस. के. रूगटा, सेल के निदेशकगण तथा अन्य सम्मानित अतिथि उपस्थित थे।

 

यह पुस्तक न केवल सतर्कता के बुनियादी क्रियाकलापों पर प्रकाश डालती है बल्कि वास्तविक जीवन की परिस्थितियों का किस तरह से मुकाबला किया जाए, को भी रेखांकित करती है। श्री नायर ने विभिन्न मुद्दों पर अपने विचारों को निरूपित और स्पष्ट करने के लिए केस स्टडीज का प्रयोग किया है। सीख देने वाली विभिन्न पहलुओं से भरपूर यह किताब सारे अधिकारियों विशेष रूप से जो सार्वजनिक उपक्रमों और सरकारी उद्यमों से आते हैं, के लिए पथ प्रदर्शिका के रूप में काम करेगी। वास्तव में यह पुस्तक न केवल कार्मिकों के लिए बल्कि किसी भी पाठक के लिए मूल्यवान है। इस पुस्तक में रोजमर्रा के जीवन से जुड़े मुद्दों का व्यवहारिक समाधान प्रस्तुत किया गया है,  क्योंकि सतर्कता के कामकाज के आधुनिक तरीके पर प्रकाश डालने वाली यह पुस्तक विभिन्न सरकारी क्षेत्रों के सतर्कता संगठनों द्वारा सन्दर्भ के लिए प्रयोग की जा सकती है।

 

लेखक परिचय

 श्री वेणुगोपाल के. नायर भारतीय पुलिस सेवा के अपर पुलिस महानिदेशक स्तर के अधिकारी हैं। श्री नायर पिछले पाँच सालों से सेल के मुख्य सतर्कता अधिकारी हैं और सतर्कता के कामकाज को दण्डात्मक से बदलकर सहक्रियात्मक बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं। श्री नायर ने नियमों और प्रक्रियाओं में पारदर्शिता लाने की जो पहल की है, उससे सेल के सतर्कता विभाग को आई एस ओ प्रमाणपत्र प्राप्त करने में मिली है। श्री नायर के पास पुलिस के साथ-साथ प्रशासनिक क्षेत्र में विभिन्न दायित्वों का निर्वाह करने का व्यापक अनुभव है। उन्हें वर्ष 2003 में उत्कृष्ट सेवा और 2008 में अतिविशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति के पुलिस पदकों से सम्मानित किया गया।

6 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here