Close X
Thursday, January 20th, 2022

सूचना की क्रांति पर सभी का हक : अहोक गहलोत

chief minister ashok gehlotआई एन वी सी,, जयपुर,, मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने कहा है कि राज्य सरकार प्रदेश की तरक्की के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है और अब तक की विकास योजनाओं और लोकहितकारी कार्यक्रमों सेे वागड़ अंचल का भी तेजी से विकास हो रहा है। मुख्यमंत्री शनिवार को बांसवाड़ा जिले के घाटोल पंचायत समिति के हरेंगजी का खेड़ा में घाटोल-खमेरा नहर और 132 केवी ग्रिड-सब-स्टेशन के शिलान्यास उपरांत आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में विद्युत को सुदृढ़ बनाया जा रहा है ताकि इसके उत्पादन के साथ-साथ वितरण भी प्रभावी तरीके से हो सके तथा बिजली की छिजत से होने वाले नुकसान से बचा जा सके। उन्होंने क्षेत्र में स्थापित किए जा रहे 132 केवी ग्रिड-सब-स्टेशन के साथ छोटे-छोटे ग्रिड-सब-स्टेशन को इसी प्रक्रिया का हिस्सा बताया। मुख्यमंत्री ने वागड़ अंचल के विकास के लिए सरकार की प्रतिबद्घता को उजागर करते हुए कहा कि रेल परियोजना, कोयला और परमाणु बिजलीघरों के साथ 125 करोड़ रुपयों की लागत से स्थापित हुआ इंजीनियरिंग कॉलेज इस अंचल के भावी विकास के प्रमुख आधार स्तंभ बनेंगे। उन्होंने इस बात पर भी खुशी जताई कि इस अंचल के 250 बच्चे एमबीबीएस कर रहे हैं। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री स्व. श्री हरिदेव जोशी को याद किया और कहा कि उनकी सोच से आज न केवल वागड क्षेत्र बल्कि राज्य भी विकास की दौड़ में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा मुख्यमंत्री बीपीएल आवास योजना, अन्न सुरक्षा कार्यक्रम जैसे विभिन्न लोकहितकारी योजनाओं के माध्यम से प्रदेश के गरीब वर्गों को राहत दी जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार मुख्यमंत्री बीपीएल आवास योजना के माध्यम से 3 हजार 400 करोड़ रुपयों का कर्ज लेकर 10 लाख परिवारों को पक्के मकान की सौगात दे रही है। उन्होंने कहा कि सूचना क्रांति का लाभ विद्यार्थियों को दिलाने के उद्देश्य से सरकार द्वारा 165 करोड़ रुपये व्यय लेपटॉप दिए जा रहे है वहीं काश्तकारों की सुविधा के लिए राज्य सरकार द्वारा ब्याज मुक्त फसली ऋण के रूप में 10 हजार 600 करोड़ रुपयों का वितरण कर राहत दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सिंचाई सुविधाओं के विस्तार के लिए पर्याप्त धनराशि मुहैया करवाई जाकर प्रदेश में किसानों के खेतों तक सिंचाई का पानी पहुंचाने का प्रयास कर रही है और इस 14 किलोमीटर लंबाई वाली खमेरा नहर निर्माण से क्षेत्र के 16 गांवों में 7011 हेक्टेयर भूमि सिंचित हो पाएगी और माही के पानी की सिंचाई सुविधा से वंचित काश्तकारों को अपने परिश्रम का पूरा-पूरा लाभ मिलने लगेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जीएसएस की स्थापना से इस क्षेत्र के लोगों को बेहतर विद्युत आपूर्ति बिना किसी व्यवधान के उपलब्ध होगी।

Comments

CAPTCHA code

Users Comment