डॉ. रमन सिंह आई एन वी सी न्यूज़आई एन वी सी न्यूज़
रायपुर,
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि राज्य सरकार ने जिन 93 तहसीलों को सूखाग्रस्त घोषित किया है, वहां के जरूरतमंद ग्रामीणों को मनरेगा के तहत अब सालाना 100 दिनों के स्थान पर 150 दिनों का रोजगार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों से हो रही बारिश के फलस्वरूप हालांकि किसानों को कुछ राहत मिली हैं, लेकिन मानसून के समय बारिश कम होने के कारण प्रभावित किसानों को सरकार हर संभव मदद के लिए तत्पर है।
डॉ. रमन सिंह आज दोपहर राज्य के आदिवासी बहुल विकासखण्ड मुख्यालय अम्बागढ़ चौकी में एक विशाल जनसभा में किसानों और ग्रामीणों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने इस मौके पर विकासखण्ड अम्बागढ़ चौकी के आर्सेनिक प्रभावित ग्यारह गांवों की जनता को शुद्ध पेयजल दिलाने के लिए 20 करोड़ 41 लाख रूपए की लागत वाली सामूहिक नल-जल योजना का भूमिपूजन और शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने इसे मिलाकर आज के कार्यक्रम में अम्बागढ़ चौकी क्षेत्र को लगभग 51 करोड़ 46 लाख रूपए के विकास कार्यों की सौगात दी। उन्होंने इनमें से 48 करोड़ 88 लाख रूपए के ग्यारह निर्माण कार्यों का भूमिपूजन और शिलान्यास और लगभग दो करोड़ 57 लाख रूपए के पूर्ण हो चुके तीन निर्माण कार्यों का लोकार्पण किया। डॉ. सिंह ने अम्बागढ़ चौकी से कोरचाटोला तक 25 किलोमीटर तक सड़क जीर्णोद्धार का कार्य जल्द मंजूर करने और बजट में शामिल करने की घोषणा की। उन्होंने अम्बागढ़ चौकी में मंगल भवन निर्माण के लिए दस लाख रूपए तथा व्यायाम शाला निर्माण की मांग भी मंजूर करने का ऐलान किया। मुख्यमंत्री के हाथों आज अम्बागढ़ चौकी में जिस सामूहिक नल-जल योजना का भूमिपूजन हुआ, उस योजना के तहत लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा ग्राम बिहरी के पास शिवनाथ नदी में निर्मित एनीकट से 18 गांवों तक पाइप लाइन के जरिए स्वच्छ पेयजल पहुंचाया जाएगा। इनमें से ग्यारह गांव आर्सेनिक प्रभावित हैं, जहां शुद्ध पेयजल मिलने पर लोगों का स्वास्थ्य भी बेहतर होगा। समारोह को लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री पैकरा और राजनांदगांव के लोक सभा सांसद श्री अभिषेक सिंह ने भी सम्बोधित किया।
कृषि महाविद्यालय के सामने मैदान में आयोजित विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आज इस इलाके में नये निर्माण कार्यों के भूमिपूजन और लोकार्पण से विकास का एक नया अध्याय जुड़ गया है। उन्होंने कहा कि अम्बागढ़ चौकी में समूह नल-जल योजना के शिलान्यास की वर्षों पुरानी मांग आज पूरी हुई। उन्होने आर्सेनिक प्रभावित गांवों के लोगोें को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने की योजना को अपने सार्वजनिक जीवन की महत्वपूर्ण उपलब्धि बताया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने मानपुर से मदनवाड़ा मार्ग में भुरके नदी पर उच्चस्तरीय पुल निर्माण को वनांचल एवं आदिवासी क्षेत्र के लिए जीवन रेखा बताया।     मुख्यमंत्री ने स्वच्छ भारत मिशन के तहत अम्बागढ़ चौकी विकासखंड को शत-प्रतिशत खुले मेें शौचमुक्त बनाये जाने हेतु किये जा रहे प्रयासों की प्रशंसा की। उन्होंने उम्मीद जताई कि जनता के सहयोग से अम्बागढ़ चौकी पूरे देश में खुले में शौचमुक्त बनने वाला पहला विकासखंड होगा। डॉ. रमन सिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की बीमा योजनाओं सहित राज्य में जल्द शुरू हो रही प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना पर भी प्रकाश डाला और कहा कि ये सभी योजनाएं आम जनता की बेहतरी के लिए शुरू की गई हैं।
डॉ. रमन सिंह ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री ग्रामीण सड़क योजनांतर्गत 1 करोड़ 53 लाख रूपए की लागत से मचानपुर-खैरी मार्ग, 1 करोड़ 15 लाख 90 हजार रूपए की लागत से देवरसुर-गुंजमहुआ मार्ग, दो करोड़ 43 लाख 62 हजार रूपए की लागत से सोमाटोला-पद्दाटोला मार्ग, 2 करोड़ 1 लाख 98 हजार रूपए की लागत से छुरिया-गिधाली मार्ग, 2 करोड़ 75 लाख 68 हजार रूपए की लागत से आमाटोला-बिरझूटोला मार्ग, 2 करोड़ 19 लाख 86 हजार रूपए की लागत से राजाटोला-आलकन्हार मार्ग निर्माण का शिलान्यास किया गया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग द्वारा 45 लाख रूपए की लागत से निर्मित विकासखंड स्तरीय प्रशिक्षण केन्द्र भवन, 15 लाख रूपए की लागत से हल्बा समाज सामुदायिक भवन एवं 1 करोड़ 97 लाख रूपए के जोबटोला से दनगड़ मार्ग का लोकार्पण किया। इस मौके पर पूर्व विधायक सर्वश्री रजिन्दर पाल सिंह भाटिया, शिवराज सिंह उसारे, संजीव शाह और गोवर्धन नेताम सहित अम्बागढ़ चौकी जनपद पंचायत अध्यक्ष श्री शिवचरण अमरिया, नगर पंचायत अध्यक्ष श्री अनिल मानिकपुरी, कलेक्टर राजनांदगांव श्री मुकेश बंसल और अन्य अनेक जनप्रतिनिधि तथा अधिकारी और कर्मचारी भी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here