आई एन वी सी न्यूज़
लखनऊ,
डॉ.रामकृष्णन पार्थसारथी, प्रधान वैज्ञानिक, सीएसआईआर-आईआईटीआर,  को  इंडियन इस्टीट्यूट ऑफ ट्रोपिकल मेट्रोलोजी (आईआईटीएम), पुणे में डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम क्रे एचपीसी अवार्ड, वर्ष – 2019, से सम्मानित किया गया। जूरी के सदस्यों ने डॉ. पार्थसारथी के शोधकर्ता श्रेणी के अंतर्गत प्रयासों एवं भारत में एचपीसी अनुप्रयोगों में उच्च प्रदर्शन कम्प्यूटिंग क्षेत्र आरएंडडी के प्रति उनके उत्कृष्ट एवं निरंतर योगदान को मान्यता दी है। वह प्रथम सीएसआईआर वैज्ञानिक हैं जिन्होंने "बायोमोलेक्युलर एसेम्बलीज़ की संरचना एवं प्रतिक्रियाशीलता को समझने हेतु एप्लाइड कम्प्यूटेशनल बायोसाइंस में उनके योगदान हेतु" प्रशस्ति पत्र के साथ यह प्रतिष्ठित सम्मान प्राप्त किया है।

क्रे सुपर कंप्यूटर, भारत एवं  इंटेल ने भारत में एचपीसी  अनुसंधान एवं विकास (आर एंड डी) के क्षेत्र में डॉ. पार्थसारथी, वैज्ञानिक के उत्कृष्ट योगदान पर प्रकाश डालने एवं पुरस्कार हेतु आईआईटीएम, पुणे में कार्यक्रम आयोजित किया। प्रोफेसर डॉ. एन. बालाकृष्णन (एसईआरसी, आईआईएससी), जूरी अध्यक्ष ने पूर्व राष्ट्रपति डॉ. कलाम के सम्मान में पुरस्कार की स्थापना तथा संपूर्ण भारत में सुपरकंप्यूटिंग क्षमताओं की स्थापना हेतु उनके प्रारंभिक कार्यों पर प्रकाश डाला। डॉ. माधवन नायर राजीवन, सचिव, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, मुख्य अतिथि एवं डॉ. शेखर सी मांडे, सचिव, डीएसआईआर एवं महानिदेशक, सीएसआईआर, गेस्ट ऑफ ऑनर ने पुरस्कार समारोह से पूर्व सभा को संबोधित किया। डॉ. शेखर मांडे ने अपनी उल्लेखनीय टिप्पणी में सभी पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी तथा  विशेष रूप से प्रसन्नता का उल्लेख किया कि यह एक सीएसआईआर वैज्ञानिक को प्रमुख पहचान प्राप्त हुई है । उन्होंने नागरिकों के लाभ हेतु एचपीसी कार्यों एवं कृषि तथा मानव स्वास्थ्य के क्षेत्र में उन्नत कंप्यूटिंग का उपयोग पर सीएसआईआर के आगामी प्रमुख कार्यक्रमों के बारे में जानकारी प्रदान किया। इसके उपरांत, पुरस्कार विजेताओं ने इस अवसर पर प्रतिष्ठित सभा में अपने शोध योगदान प्रस्तुत किए।

डॉ. शेखर सी मांडे, सचिव, डीएसआईआर एवं महानिदेशक, सीएसआईआर डॉ. आर. पार्थसारथी, सीएसआईआर-आईआईटीआर को डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम क्रे एचपीसी पुरस्कार प्रदान करते हुए।